जलमग्न हुआ नायर अस्पताल

  • कोविड ओपीडी करनी पड़ी शिफ्ट

सूरज पांडेय 

मुंबई. मंगलवार की रात मुंबई में हुई भारी बारिश से शहर के कई हिस्सों में पानी भर गया. हालांकि बारिश का यह सिलसिला बुधवार को भी रुक- रुक कर जारी रहा. मुंबई सेंट्रल स्थित मनपा का नायर अस्पताल भी जलमग्न हो गया, जिसके चलते डॉक्टरों, नर्सेज और अन्य कर्मचारियों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा. परेशानियों के बावजूद डॉक्टर से लेकर अन्य कर्मी ड्यूटी पर लगे हुए थे ताकि सेवा प्रभावित न हो. शहर में झमाझम बरसात से बुधवार की रात नायर अस्पताल में कमर तक पानी जमा हो गया. अस्पताल के ग्राउंड फ्लोर पर स्थित कोविड ओपीडी में भी घुटनों तक पानी भर गया. ऐसे में पानी में फंसे डॉक्टरों को एम्बुलेंस मंगाकर बाहर निकाला गया. डॉक्टर व कर्मचारियों ने पानी भरता देख जरूरत के सामानों को ठिकाने लगाया. 

कोविड ड्यूटी में लगे एक डॉक्टर ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि पानी का स्तर बढ़ता जा रहा था. ऐसे में वरिष्ठों से बातचीत कर तुरंत ओपीडी को कैजुअल्टी में शिफ्ट किया गया. सुबह से स्वेब कलेक्शन का कार्य कैजुअल्टी में किया जा रहा है. केईएम अस्पताल के एक कर्मचारी ने बताया कि सुबह अस्पताल के पैसेज में थोड़ा पानी जमा हुआ था, लेकिन कोई खास परेशानी नहीं हुई और पानी निकल भी गया.

बीकेसी में लीकेज

 बारिश का थोड़ा असर बीकेसी स्थित कोविड केअर सेंटर पर भी देखने को मिला.अस्पताल के एक डॉक्टर ने बताया कि मूसलाधार बरसात के कारण कुछ जगह से पानी टपक रहा था.

अस्पतालों में दिखे कम मरीज

मुंबई की सड़कें जलमग्न होने कारण अस्पतालों में भी मरीजों की संख्या कम दिखी.नायर अस्पताल के डीन डॉ. रमेश भारमल ने बताया कि रोज की तुलना में आज मरीजों की संख्या कम रही. सायन अस्पताल के डीन डॉ. मोहन जोशी ने कहा कि बारिश के कारण आज कम मरीज अस्पताल आए. मरीज हो या कर्मचारी अस्पताल तक पहुंचने में भी सभी को काफी मशक्कत करनी पड़ी.

इलाज में बारिश का अड़ंगा

एसोसिएशन ऑफ मेडिकल कंसल्टेंट के अध्यक्ष डॉ. दीपक बैद ने बताया कि उनके परिचित डॉक्टर चेम्बूर के एक निजी अस्पताल में भर्ती हैंं.उन्हें रेमडीसीवीर इंजेक्शन की तत्काल आवश्यकता है, भायखला स्थित स्टॉकिस्ट के पास इंजेक्शन उपलब्ध है. मैंने अपनी एम्बुलेंस भेज भी दी है, लेकिन सड़क पर जलजमाव के कारण वहां तक कब पहुंंचेगी पता नहीं.