न गरजे, न बरसे, बादलों से घिरी मुंबई

  • शहर में बढ़ेगी ठंड

मुंबई. आमतौर पर मुंबई में दिन के समय चिलचिलाती धूप का सामना मुंबईकरों को करना पड़ता है, लेकिन शनिवार को शहर का आसमान बादलों से घिरा हुआ नजर आया. अब काले बादल को देख यह लग रहा था कि हल्की फुल्की बारिश होगी, लेकिन मौसम वैज्ञानिकों की माने तो यह बादल न तो गरजेंगे न ही बरसेंगे. इसी के साथ शहर में हल्की ठंड बढ़ने की बात भी कही है.क्षेत्रीय मौसम विभाग आईएमडी की माने तो चक्रवाती तूफान निवार के खत्म होने के बाद का थोड़ा बहुत असर मुंबई के मौसम पर देखने को मिला है.

आईएमडी के उपनिदेशक के एच होसलिकर ने बताया कि दक्षिण पूर्व से चक्रवात के गुजरने के बाद काफी नमी तैयार हुई जिसके कारण ऊंचे बादल बने. इन बादलों के कारण थोड़ी विसिबिल्टी कम होगी बाकी हल्की बूंदाबांदी हो सकती है और इसी के साथ तापमान में हल्की गिरावट भी होगी. 

कम हो सकता है तापमान

गौरतलब है कि मुंबई में अभी तक ठंड ने दस्तक नहीं दी है. रात में मुंबईकरों को थोड़ी बहोत राहत मिल भी जाती है, लेकिन दिन में अब भी तापमान 33 से 34 डिग्री सेल्सियस बना हुआ है. मौसम विशेषज्ञ दिनेश मिश्रा ने कहा कि वैसे तो चक्रवात का मुंबई या महाराष्ट्र पर कोई असर नहीं रहा है, लेकिन चक्रवात समाप्त होने के बाद अपने पीछे काफी मॉइस्चर छोड़ जाता है. बादल है, लेकिन बरसेंगे नहीं संभवत: रविवार को बादल छट जाए. दूसरी ओर उत्तर से ठंड हवाओं का मुंबई की ओर आना यानी तापमान में 2 से 3 डिग्री सेल्सियस की गिरावट दर्ज की जा सकती है.

दिसंबर के दूसरे साप्ताह से ठंड

मौसम की भविष्यवाणी करने वाली संस्था स्काई मेट के प्रमुख मेट्रोलॉजिस्ट महेश पालावत ने कहा कि भले ही मुंबई के तापमान में थोड़ी गिरावट देखने को मिले, लेकिन अब भी ठंड ने पूरी तरह मुंबई में दस्तक नहीं दी है. दिसंबर के दूसरे सप्ताह तक मुंबई का तापमान और भी गिर सकता है और ठंड बढ़ सकती है.

मुंबई की हवा खराब

वायु गुणवत्ता पर नजर रखने वाली सिस्टम ऑफ एयर क्वॉलिटी ऐंड वेदर फॉरकॉस्टिंग एंड रिसर्च (सफर) के मुताबिक, शनिवार को मुंबई की हवा की गुणवत्ता खराब रही. मुंबई की औसतन वायु गुणवत्ता 239 एक्यूआई दर्ज की गई, जो कि ‘पुअर’ यानी खराब की श्रेणी में आती है.