पालघर तहसीलदार की छुट्टी में नया खुलासा, शादी के लिए गए थे छुट्टी पर

प्रवासी मजदूरों पर लात- घूसे बरसाने के बाद हुई थी कार्रवाई 

-अब मामले की लीपापोती में जुटा प्रशासन 

– भाजपा ने किया ठीया आंदोलन

पालघर. पालघर में श्रमिक ट्रेनों के लिए प्रवासी मजदूरो को कूपन देने के दौरान मजदूर को लात मारने वाले तहसीलदार व कार्यकारी मजिस्ट्रेट सुनील शिंदे  पर कार्रवाई की मांग को लेकर भाजपा द्वारा ठीया आंदोलन शुरू किया गया.पालघर जिला भाजपा महासचिव संतोष , जिला उपाध्यक्ष सुजीत पाटिल , पालघर तालुका अध्यक्ष प्रमोद आरेकर , पालघर शहर अध्यक्ष तेजराज हजारी, पूर्व तालुका अध्यक्ष विजय तमोरे समेत भाजपा के अन्य पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओंं द्वारा तहसील के सामने ठीया आंदोलन किया गया. 

   बता देंं कि 20 मई को श्रमिक ट्रेनों में उत्तर प्रदेश जाने वाले प्रवासी मजदूरों को कूपन देने के लिए पालघर के आर्यन हाईस्कूल ग्राउंड पर बुलाया गया था और वहांं बड़ी संख्या में प्रवासी मजदूर जमा हुए थे.  इन प्रवासी मजदूरोंं की भीड़ को कंट्रोल करने और उनके शोसल डिस्टेस्टिंग के लिए पालघर के तहसीलदार सुनील शिंदे की तरफ से किसी तरह की कोई व्यवस्था नहींं की गयी थी. इसी दौरान तहसीलदार ने प्रवासी मजदूरोंं पर लात और झापड़ बरसाना शुरू कर दिया था.

…तो आंदोलन और तेज करेंगे

यह घटना सामने आने के बाद तहसीलदार को छुट्टी पर भेज दिया गया लेकिन जब सच्चाई बाहर आई तो पता चला कि तहसीलदार को शादी की छुट्टी पर भेजा गया था.छुट्टी पर होने के बावजूद तहसीलदार अपने कार्यालय में कार्यरत दिखाई दिए और बाद में फिर से चार्ज संभाल लिया. आंदोलनकारियों का कहना है अगर प्रशासन तहसीलदार व कार्यकारी मजिस्ट्रेट पर कार्रवाई नहींं करता है और इस मामले की लीपापोती करता है तो आंदोलन और तेज करेंगे.