ऑक्सीजन पर कैपिंग नहीं, संभालकर करें उपयोग

  • डॉक्टरों के विरोध के बाद सरकार का नया सर्कुलर 

मुंबई. ऑक्सीजन की बढ़ती खपत को देखते हुए सरकार ने एक सर्कुलर जारी कर अस्पताल को चेताया था कि वे बिना आवश्यकता के ऑक्सीजन बर्बाद न करें. साथ ही में कोरोना मरीज के लिए ऑक्सीजन की कैपिंग भी की थी, लेकिन राज्य के डॉक्टरों के विरोध के बाद सरकार ने नया सर्कुलर जारी कर कैपिंग की बात को नकारते हुए कहा कि हमने बस ऑक्सीजन को संभालकर उपयोग करने के लिए कहा है.

ऑक्सीजन की खपत बढ़ रही है

राज्य में दिन-ब-दिन ऑक्सीजन की खपत बढ़ रही है. यही रफ्तार रही तो आने वाले समय में हाहाकार मच सकता है.सरकार ने सर्कुलर जारी कर नार्मल वार्ड में भर्ती मरीज को 6 लीटर प्रति मिनट और आईसीयू में भर्ती मरीज को 12 लीटर प्रति मिनट के हिसाब से ऑक्सीजन देने के लिए कहा था. सरकार के इस फैसले को लेकर डॉक्टरों के संगठन इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) और एसोसिएशन ऑफ मेडिकल कंसल्टेंट (एएमसी) ने नाराजगी व्यक्त की थी. इस निर्णय की आलोचना के बाद सरकार ने एक नया सर्कुलर जारी कर कहा कि ऑक्सीजन के इस्तेमाल पर कैपिंग नहीं की है. बस संभालकर उपयोग करने को कहा है.

…तो भविष्य में ऑक्सीजन की कमी होना तय

एएमसी के अध्यक्ष डॉ. दीपक बैद ने कहा कि हमने पहले ही कहा था कि सरकार को गलत सलाह दी जा रही है. भले ही सरकार ने ऑक्सीजन पर कैपिंग नहीं की है, लेकिन समस्या का समाधान नहीं हुआ है. अगर हमने कोविड केअर सेंटर (सीसीसी) 2 नहीं खोले तो भविष्य में ऑक्सीजन की कमी होना तय है, क्योंकि वहां ऑक्सीजन कंसेंट्रेटर मशीन है, जो वायुमंडल में मौजूद ऑक्सीजन लेकर मरीज को देती है. सरकार को अन्य सेंटर्स में भी उक्त मशीन लगानी चाहिए. इससे सिलिंडर वाले ऑक्सीजन की खपत कम होगी.