Rain
Representational Pic

30 दिन का बचा है तालाबों में पानी

मुंबई. मुंबई में साधारणत: 10 जून से बरसात शुरु हो जाती है, लेकिन इस बार बिलंब हो रहा है. यदि इसी तरह से मानसून की बेरुखी रही तो आने वाले समय में मुंबईकरों को पानी के लिए मुश्किल हो सकती है. 

आईएमडी मुंबई के अनुसार इस वर्ष दक्षिणी मानसून का आगमन 15 जून को हुआ था, लेकिन उसके बरसात लगभग गायब हो गई है. दो दिन हल्की बरसात भी हुई, लेकिन जो बरसात हुई वह कैचमेंट इलाके से दूर होने के कारण इसका फायदा तालाबों को नहीं हुआ. 

मुंबई में पानी आपूर्ति करने वाले 7 बड़े तालाब

मुंबई में पानी आपूर्ति करने वाले 7 बड़े तालाब हैं. अपर वैतरणा, मध्य वैतरणा, मोडक सागर, भातसा, तानसा, और विहार मुंबई से दूर हैं.  मुंबई को प्रतिदिन 4000 एमएलडी पानी की जरुरत है जिसमें से 3,500 एमएलडी पानी की आपूर्ति की जा रही है. इन तालाबों में सप्लाई के लिए 1लाख 38 हजार एमएलडी पानी बचा है जिससे केवल 30 दिन के लिए पानी आपूर्ति की जा सकती है. 

हो सकती है पानी आपूर्ति में कटौती 

मुंबई आईएमडी का कहना है कि सोमवार तक हल्की या उससे थोड़ी अधिक बरसात हो सकती है.  इस वर्ष दक्षिणी मानसून उत्तर दिशा की तरफ खिसक जाने के कारण मुंबई और आस पास के इलाकों में बरसात नहीं हो सकी. अब तक कोलाबा मेंं 387.7 मिमी बरसात हुई है जो कि सामान्य से 84.5 मिमी कम है. इसी प्रकार सांताक्रूज में 317.2 मिमी बरसात हुई है. यहां भी सामान से 105.7 मिमी कम बरसात हुई है. कैचमेंट एरिया में बरसात नहीं होने से आने वाले समय में पानी आपूर्ति में कटौती करनी पड़ सकती है. बीएमसी के अनुसार अभी बीएमसी के पास आपूर्ति के लिए 8.86% पानी है जो एक महीने से अधिक समय के लिए पर्याप्त है. पिछले वर्ष भी जून के अंतिम सप्ताह में बरसात शुरु हुई थी, लेकिन अच्छी बरसात होने से तालाब ओवरफ्लो हो गए थे.