अब घर बैठे डाकिया देगा बुजुर्गों को जीवन प्रमाण पत्र

  • पेंशन पाने के लिए नहीं काटने होंगे बैंकों के चक्कर, 70 रूपये होगी फीस

मुंबई. डाक विभाग ने एक महत्वपूर्ण फैसला लेते हुए अब देश भर के सीनियर सिटिजन को घर बैठे डिजिटल लाइफ सर्टिफ़िकेट देने की सुविधा मुहैया कराई है जिसका जिससे उन्हें बुढ़ापे में इधर-उधर के चक्कर ना काटने पड़े. अब बुजुर्गों को डाकिया खुद उनके घर आकर उनके आधार पहचान पत्र के जरिये उन्हें यह सर्टिफिकेट देकर जा रहे हैं. बदले में उनसे सिर्फ 70 रूपये का शुल्क वसूला जा रहा है. यह सुविधा 1 नवम्बर से लागू हो गई है.

इसके बारे में जानकारी देते हुए एक वरिष्ठ अधिकारी ने ‘नवभारत’ को बताया कि इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक ने माइक्रो एटीएम मोबाइल के माध्यम से पेंशनर्स के लिए जीवन प्रमाण पत्र बनाने की सुविधा प्रदान की है. इसके लिए डाक विभाग ने अपने सभी पोस्टमैन और ब्रांच पोस्ट मास्टरों को निर्देश दिया है कि फील्ड में डाक वितरण के दौरान उनके क्षेत्र में जो भी पेंशनर्स निवास करते हैं, उनको जीवन प्रमाण पत्र बनाने की सुविधा घर बैठे ही प्रदान करें. इससे बुजुर्गों को खासकर, जिन्हें ठीक से चलना फिरना मुहाल होता है, उनके लिए यह पहल जैसे किसी मुंह मांगी मुराद जैसी है. अब उन्हें ना तो बैंकों के चक्कर लगाने होंगे और ना ही इधर-उधर की धक्का मुक्की सहनी होगी.

आवेदन कर पोस्टमैन को घर बुला सकते हैं 

महाराष्ट्र और गोवा सर्किल के चीफ पोस्ट मास्टर जनरल एच सी अग्रवाल ने बताया कि डाकघर के पोस्टमैन और ग्रामीण डाक सेवकों को एप आधारित मोबाइल बॉयोमीट्रिक्स डिवाइस दी गई है जो आधार का सत्यापन करता है. कोई भी सीनियर सिटीजन आवेदन कर पोस्टमैन और ग्रामीण डाक सेवकों को अपने घर बुला सकते हैं और उनकी मदद से अपना डिजिटल लाइफ सर्टिफ़िकेट बनवा सकते हैं. अग्रवाल ने बताया कि किसी भी पेंशनर्स को यदि घर बैठे जीवन प्रमाण पत्र बनाना हो तो अपने किसी भी नजदीकी डाकघर अथवा अपने क्षेत्र में डाक वितरण के लिए आने वाले पोस्टमैन से सम्पर्क कर सकते हैं.