अब शिवसेना हिंदुत्वादी नहीं है

  • नारायण राणे का शिवसेना पर हमला

मुंबई. पालघर में दो साधुओं सहित तीन लोगों की पीट-पीट कर हत्या किए जाने के मामले की सीबीआई जांच कराने की मांग को लेकर बुधवार को सुबह निकाली गयी जनाक्रोश यात्रा को पुलिस ने रोक दिया. पुलिस ने विधायक राम कदम सहित अन्य कार्यकर्ताओं को हिरासत में ले लिया, जिन्हें बाद में छोड़ दिया गया. जिसको लेकर पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा सांसद नारायण राणे ने शिवसेना पर जोरदार हमला किया है. उन्होंने कहा कि अब शिवसेना हिंदुत्वादी नहीं है. उसने हिंदुत्व को छोड़ दिया है, इसलिए उससे किसी तरह की अपेक्षा नहीं की जा सकती है.

राणे ने कहा कि राज्य में 3 दलों की सरकार है. तीनों दल हिंदू विरोधी हैं, यह हम नहीं कहेंगे, लेकिन शिवसेना अब हिंदुत्वादी नहीं है. शिवसेना को हम हिंदुत्वादी नहीं कहेंगे. यह जोड़-तोड़ की राजनीति है. शिवसेना ने सत्ता हासिल करने के लिए गद्दारी की है. मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे हिंदुत्व के विचारों पर चलने वाले नहीं हैं.वे पद के लिए जो हो सकेगा वही करेंगे. 

पालघर हत्याकांड की सीबीआई जांच होनी चाहिए

पालघर जिले में पिछले अप्रैल माह में लाकडाउन के दौरान रात के समय भीड़ ने 2 साधुओं और उनके ड्राइवर की पीट-पीट कर हत्या कर दी थी. इस मामले की सीबीआई जांच की मांग को लेकर विधायक राम कदम ने बुधवार को सुबह मुंबई से पालघर तक ‘जनआक्रोश यात्रा’ का आयोजन किया था. पुलिस ने यात्रा को रोक दिया और विधयक कदम सहित कार्यकर्ताओं को हिरासत में ले लिया. जानकारी मिलने के बाद भाजपा नेता नारायण राणे और विधायक नितेश राणे खार पुलिस स्टेशन पहुंचे. जिसके बाद कदम और कार्यकर्ताओं को रिहा किया गया. इस अवसर पर राणे ने सरकार की आलोचना करते हुए कहा कि पालघर हत्याकांड की सीबीआई जांच होनी चाहिए.