कोरोना से लड़कर जीते पुलिस नाईक कट्टी

मुंबई. शिवड़ी पुलिस स्टेशन के पुलिस नाईक अवधूत कट्टी को अपने साथियों से कोरोना संक्रमण हो गया था. पुलिस स्टेशन में पहले से कई साथियों को इंफेक्शन हुआ था. बुखार, दर्द और गले में खरास होने के कारण अवधूत नायगांव स्थित पुलिस हॉस्पिटल में चेक कराने गए. वहां डॉक्टर ने कुछ दवाइयां दीं, जिससे उन्हें आराम हुआ. डॉक्टर ने उन्हें कोविड-19 टेस्ट कराने के लिए सलाह दी. 

15 मई को उन्होंने जेजे हॉस्पिटल में टेस्ट कराया, कोरोना पॉजिटिव रिपोर्ट उन्हें बीएमसी द्वारा 17 मई को प्राप्त हुई. कट्टी को परेल स्थित एमजीएम हॉस्पिटल के आइसोलेशन सेंटर में एडमिट किया गया. वहां पर दवाइयों के अलावा उन्हें विटामिन सी, बी कांप्लेक्स, गरम दूध, गरम पानी, खाना आदि दिया जाता था. 10 दिन आइसोलेशन सेंटर में रहने के बाद कट्टी को 26 मई को डिस्चार्ज कर दिया गया. उनका हर दिन ऑक्सीजन और पल्स लेवल के साथ बुखार भी चेक किया जाता था. 

कोरोना से डरें नहीं

कट्टी 10 दिन तक आइसोलेशन सेंटर में रहे. डिस्चार्ज होने के बाद कट्टी होम क्वारंटाइन अवधि भी पूरी कर लिए हैं. साथ ही अपनी ड्यूटी ज्वाइन कर लिए हैं. कट्टी ने कहा कि उन्हें आइसोलेशन सेंटर में पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह के आदेशानुसार हर दिन पुलिस प्रशासन की तरफ से हालचाल पूछा जाता था. पुलिस संक्रमितों के लिए अलग से कोविड-19 हेल्पलाइन बनाई गई है. अवधूत कट्टी ने कहा कि संक्रमण के दौरान मेरे मुंह का टेस्ट और स्मेल खत्म हो गया था. उन्होंने कहा कि लोग कोरोना से डरें नहीं. इसके साथ-साथ यदि संक्रमण हो गया तो उसे छिपाएं भी नहीं. तुरंत डॉक्टर को दिखाएं, जिससे घर और बाहर के अन्य लोग संक्रमण से प्रभावित ना हो सकें.