लाइसेंस की संख्या घटाने की तैयारी

  • आतिथ्य सत्कार क्षेत्र को बढ़ावा देगी सरकार
  • आदित्य ठाकरे ने की अधिकारियों के साथ बैठक

मुंबई. राज्य में आतिथ्य सत्कार क्षेत्र को बढ़ावा देने को लेकर महाविकास आघाड़ी सरकार इसमें लगने वाले लाइसेंस की संख्या कम करने की तैयारी कर रही है. पर्यटन मंत्री आदित्य ठाकरे की अध्यक्षता में मंगलवार को मंत्रालय में एक बैठक हुई जिसमें इज ऑफ डुइंग बिजनेस अंतर्गत इस क्षेत्र में लगने वाले विभिन्न लाइसेंस की संख्या कम करने के साथ ही प्रक्रिया को सरल बनाने पर चर्चा की गई.  

बैठक में कहा गया कि होटल, लॉजेस, रिसोर्ट और रेस्टोरेंट में बड़े पैमाने पर रोजगार का अवसर मिलेगा. पर्यटन मंत्री ठाकरे ने कहा कि हमारा लक्ष्य है कि नए होटल के लिए लाइसेंस की संख्या 10 से भी कम किया जाय. 

सिंधुदूर्ग जिले में होटल ताज निवेश कर रहा

 ठाकरे ने भरोसा जताते हुए कहा कि कोरोनो समाप्त होने के बाद पर्यटन क्षेत्र के अच्छे दिन आएंगे. जिसको देखते हुए राज्य में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए विभिन्न निर्णय लिए जा रहे हैं. एग्रीकल्चर टूरिज्म पॉलिसी, बीच सैक पॉलिसी घोषित की जा चुकी है. इसके अलावा अन्य पॉलिसी भी तैयार की जा रही है. सिंधुदूर्ग जिले में होटल ताज निवेश कर रहा है.आतिथ्य सत्कार क्षेत्र में रोजगार निर्मिति की बड़ी क्षमता है.जिससे राज्य में आने वाले दिनों में  बड़े पैमाने पर होटल, रिसॉर्ट्स, होम स्टे, फार्म स्टे आदि निर्माण होगा इसके लिए पर्यटन विभाग प्रयास कर रहा है.

 बैठक में पर्यटन राज्यमंत्री अदिती तटकरे, राजस्व विभाग के अपर मुख्य सचिव नितीन करीर, ग्रामविकास विभाग के अपर मुख्य सचिव अरविंद कुमार, नगरविकास विभाग के प्रधान सचिव भूषण गगराणी, पर्यटन विभाग की प्रधान सचिव वल्सा नायर – सिंह, श्रम विभाग की सचिव विनीता सिंघल, उर्जा विभाग के प्रधान सचिव असीम गुप्ता, कौशल्य विकास विभाग के सचिव अंशू सिन्हा, एमटीडीसी के प्रबंध निदेशक आशुतोष सलील, पर्यटन निदेशक दिलीप गावडे, संयुक्त पुलिस आयुक्त विश्वास नांगरे-पाटील सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे.