‘लाइफलाइन’ को पटरी पर लाने की तैयारी

  • चल रहीं 1181 लोकल फेरियां
  • आम लोगों के लिए कुछ दिन और ब्रेक

मुंबई. कोरोना के चलते पिछले पौने सात माह से आम यात्रियों के लिए बंद मुंबई लोकल (Mumbai Local) को धीरे-धीरे पटरी पर लाने की तैयारी हो रही है. अनलॉक की घोषणा के बाद लोकल को भी आम लोगों के लिए शुरू किए जाने की मांग लगातार की जा रही है. 22 मार्च से ही आम लोगों के लिए मुंबई लोकल ठप है, लेकिन अब रेलवे भी लंबी दूरी की ट्रेनों के साथ- साथ मुंबई की लाइफ लाइन कही जाने वाली लोकल को पटरी पर लाने की तैयारी में लगी हुई है. गुरुवार से पश्चिम रेलवे (Western Railway) ने 10 एसी लोकल सहित कुल 700 फेरियां शुरू कर दी हैं, जिससे अत्यावश्यक कर्मचारियों को काफी राहत मिली है.

पश्चिम रेलवे पर 50 प्रतिशत लोकल का संचालन

देखा जाए तो, पश्चिम रेलवे पर लोकल की 700 फेरियां शुरू हो जाने से अब 50 प्रतिशत से ज्यादा लोकल का संचालन शुरू हो गया है. लॉकडाउन के पहले तक पश्चिम रेलवे पर कुल रोजाना 1367 लोकल फेरियां होती थींं. चर्चगेट से डहाणू रोड तक चलने वाली लोकल में रोजाना 30 लाख से ज्यादा लोग यात्रा करते थे. एक अंदाज के अनुसार इस समय 700 लोकल फेरियों में 5 लाख लोग अत्यावश्यक सेवा से जुड़े कर्मचारी यात्रा कर रहे हैं. रेलवे के एक वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार हर लोकल फेरी में 700 अत्यावश्यक कर्मचारियों को ही यात्रा की परमिशन दी गई है.अब धीरे-धीरे लोकल की फेरियां बढ़ाई जाएंगी.

अनलॉक के बाद भारी भीड़

मुंबई में अनलॉक के बाद हर स्थान पर भारी भीड़ हो रही है. बेस्ट व एसटी की बसों में बढ़ी आम यात्रियों की भीड़ को देखते हुए मुंबई की लाइफलाइन लोकल ट्रेनों में आम यात्रियों के लिए इजाजत देने को लेकर राज्य सरकार पर दबाव बढ़ा है. एक तरफ जहां मेट्रो-मोनो को चलाने की इजाजत दे दी गई है, वहीं लोकल में आम लोगों को इजाजत न देने से लोगों में नाराजगी भी फैली हुई है. यात्री संगठन आम लोगों के लिए लोकल चलाने की मांग कर रहे हैं. कामकाजी आम यात्रियों का कहना है कि जब मुंबई अनलॉक हो गई है, तो आम लोगों के लिए लोकल को लॉक करना उचित नहीं है. वैसे मुंबई लोकल में अत्यावश्यक कर्मचारियों के अलावा दिव्यागों, कैंसर रोगियों, डब्ब्वाला आदि को परमिशन दी गई है. राज्य सरकार ने पिछले दिनों हाइकोर्ट में भी जवाब देते हुए कहा था कि आम लोगों के लिए लोकल शुरू करने में कोई आपत्ति नहीं है. इस बीच सीएम उद्धव ठाकरे ने आम लोगों के लिये लोकल शुरू किए जाने के निर्णय पर कुछ दिनों के लिए ब्रेक लगाने का निर्णय लिया है.

65 लाख लोग करते थे यात्रा

मध्य व पश्चिम रेलवे अत्यावश्यक कर्मचारियों के लिए लोकल की 1181 फेरियां चला रही है.मध्य रेलवे पर भी फेरियां बढ़ाने की तैयारी हो गई है.लॉकडाउन के पहले मुंबई में मध्य रेलवे की 1774 लोकल सर्विस और पश्चिम रेलवे की 1367 सर्विस होती थी.मध्य व पश्चिम रेलवे की लोकल से 65 लाख से ज्यादा लोग यात्रा करते थे. पिछले पौने सात माह से बंद लोकल को आम लोगों के लिए पटरी पर लाने का इंतजार लोग कर रहे हैं.मध्य रेलवे ने भी लोकल फेरियां बढ़ाने का निर्णय लिया है.मध्य रेलवे के मेन, हार्बर-ट्रांस हार्बर पर भी 700 फेरियों का नियोजन किया गया है. आने वाले दिनों में मध्य व पश्चिम रेलवे पर लोकल फेरियां और बढ़ेंगी.