डंपिंग ग्राउंड में तब्दील हुईंं सड़कें, वसई-विरार में जगह-जगह कचरे का अंबार

  • लोगों को सता रहा संक्रामक बीमारियों का भय

राधा कृष्णन सिंह 

वसई. वसई-विरार शहर की सड़कें इन दिनों डंपिंग ग्राउंड के रूप में तब्दील हो गईं है. सड़कों के किनारे जगह-जगह कूड़े का अंबार लगा हुआ है, जबकि कोरोना संक्रमण से सुरक्षा को लेकर मनपा मास्क न लगाने व सार्वजनिक स्थानों पर थूंकने से संक्रमण फैलने की आशंका जताते हुए सामान्य लोगों को आर्थिक दंड लगाकर उनसे जबरन वसूली कर रही है. लेकिन उनके ही ठेकेदार सफाई और कूड़ा उठाने में लापरवाही बरत रहे हैं. 

इसके कारण क्षेत्र में बड़े पैमाने पर फैली गंदगी से लोगों में संक्रामक बीमारियां फैलने की आशंका बढ़ गई है, लेकिन मनपा आयुक्त का इस ओर ध्यान नहीं है.

इन क्षेत्रों में कचरे का ढेर

धानिवबाग, नवजीवन रोड, वाकन पाड़ा, संतोष भुवन, प्रगति नगर, 90 फीट रोड, तुलिंज मार्ग, मोरेगांव, श्रीराम नगर, साग पाड़ा, डोंगर पाड़ा आदि इलाकों में जगह- जगह कूड़े का अंबार लगा हुआ है.

खुद सफाई करते हैं लोग

पहले कचरे की गाड़ी आती थी, लेकिन अब कब आती है और कब जाती है, इसका पता नहीं चलता. हर जगह कूड़े के अंबार से लोग बीमार हो रहे है. जिसके चलते अपने परिवार की सुरक्षा के लिए लोग खुद ही सफाई कार्य करते हैंं. – फूलचंद पाल,राम सिंह चाल, श्रीराम नगर निवासी

बिना शिकायत नहीं आते सफाईकर्मी

इस क्षेत्र में सफाईकर्मी खुद से नहीं आते, जब ज्यादा गंदगी जमा हो जाती है, तो मनपा में जाकर शिकायत करनी पड़ती है. जिसके बाद सफाईकर्मी आते हैंं, लेकिन खुद से नहीं आते.  इस समस्या के कारण क्षेत्र में साई मंदिर के सामने मनपा द्वारा कूड़े का डब्बा रखा गया है. नियमित कूड़ा न उठाए जाने के कारण कूड़े का अंबार लग जाता है. पूजा करने जाने वालोंं को उसी गंदगी से होकर जाना पड़ता है.

– रामजतन पाल, नालासोपारा पूर्व, साईंधाम चाल निवासी 

मच्छरों का बढ़ा प्रकोप, बीमार पड़ रहे लोग

हमारी चाल तक कूड़ा उठाने कोई नहीं आता. कुछ दूर पर आते हैं. वह भी एक दिन छोड़कर. रोजाना नहीं आते हैं. बारिश के वक़्त तो 4 महीने तक कूड़ा उठाने कोई आया ही नहीं. नियमित कूड़ा न उठने से लोगों को कूड़ा फेंकने के लिए काफी दूर जाना पड़ता है. इसके कारण घर में मच्छर पैदा होते हैं और लोग बीमार होते हैं. -सोनी यादव, जय बजरंग चाल निवासी, नालासोपारा