यात्री स्पेशल ट्रेनों से पश्चिम रेलवे को 55 करोड़ की आय

– जाने वाली ट्रेनों की बुकिंग फुल, आने वाली खाली

मुंबई. कोरोना के चलते देशव्यापी लॉकडाउन में पश्चिम रेलवे से चलाई जा रहीं यात्री स्पेशल ट्रेनों से 55 करोड़ से ज्यादा की आय हुई है.लॉकडाउन की वजह से 23 मार्च से ही नियमित ट्रेनों का परिचालन बंद है.1 जून से रेलवे  देश भर में 200 ट्रेनों का संचालन कर रही है.उसके पहले से राजधानी, शताब्दी टाइप 30 ट्रेनों का संचालन नई दिल्ली से शुरू किया गया था. राजधानी-शताब्दी सहित 20 स्पेशल ट्रेनें रोजाना पश्चिम रेलवे के प्रमुख स्टेशनों मुंबई,सूरत,अहमदाबाद से चल रही हैं.इनमें ज्यादातर यात्री स्पेशल ट्रेनों का संचालन मुंबई से हो रहा है.एक अनुमान के अनुसार 1 जून से 18 जून तक इन स्पेशल ट्रेनों से अब तक 4 लाख 80 हजार से ज्यादा लोग यात्रा कर चुके हैं,जिससे लगभग 35 करोड़ से ज्यादा की आय हो चुकी है.

इसी तरह पश्चिम रेलवे की आने वाली ट्रेनों से 3 लाख 40 हजार से ज्यादा लोगों ने यात्रा की है.इससे 20.50 करोड़ से ज्यादा आय हुई है,हालांकि कोरोना के चलते मुंबई की तरफ आने वाली गाड़ियों में यात्रियों की संख्या कम है,जबकि जाने वाली स्पेशल गाड़ियों की बुकिंग फुल है.विशेष राजधानी के साथ स्पेशल ट्रेनें दिल्ली,हावड़ा,गोरखपुर,वाराणसी,दरभंगा आदि शहरों के लिए चलाई जा रहीं हैं.

श्रमिक ट्रेनों का संचालन जारी

स्पेशल ट्रेनों के अलावा पश्चिम रेलवे ने 1 मई से ही श्रमिक ट्रेनों का संचालन जारी रखा है. अब तक 1228 श्रमिक स्पेशल ट्रेनों के माध्यम से लगभग 18.47 लाख प्रवासी मजदूरों को उनके घर भेजा जा चुका है.18 जून को भी एक ट्रेन सूरत से प्रतापगढ़ और दूसरी साबरमती से हावड़ा के लिए रवाना की गई.