चुनाव के पहले ही शिवसेना ने डाला हथियार

  • बिहार में पार्टी को नहीं मिल रहे उम्मीदवार
  • मुंबई और उत्तर प्रदेश में घूम रहे पार्टी के स्टार प्रचारक

मुंबई. बिहार विधानसभा चुनाव घोषित होने के बाद दमखम के साथ मैदान में उतरने की घोषणा करने वाली शिवसेना चुनाव के पहले ही हथियार डाल चुकी है. बिहार में पार्टी को ढूंढने से भी उम्मीदवार नहीं मिल रहे हैं. पार्टी की तरफ से घोषित स्टार प्रचारकों ने अब बिहार जाने का इरादा टाल दिया है. सभी मुंबई और एकाध उत्तर प्रदेश में टहल रहे हैं. हालांकि पार्टी की तरफ से कहा जा रहा है कि स्कूटनी में पार्टी के उमीदवारों के पर्चे अवैध ठहरा दिए गए. फिर भी 25 से 30 सीटों पर शिवसेना के उम्मीदवार मजबूती से मुकाबला करेंगे.

बिहार विधानसभा चुनाव के तीसरे चरण की नामांकन प्रक्रिया 20 अक्टूबर तक चलने वाली है. पहले और दूसरे चरण के लिए प्रचार शुरू है. पहले चरण में 71 विधानसभा सीटों के लिए इसी महीने मतदान होना है. बताया गया कि पहले चरण में शिवसेना की तरफ से 7 ने नामांकन पत्र दाखिल किया था, लेकिन 3 के ही पर्चे वैध पाए गए. दूसरे चरण में 94 सीटों के लिए मतदान कराया जाना है. शिवसेना की तरफ से कुल 9 उम्मीदवार हैं. तीसरे चरण के लिए नामांकन की प्रक्रिया शुरू है.

बिस्कुट की बजाय तुतारी

बिहार विधानसभा चुनाव में पार्टी के उम्मीदवार ‘तुतारी बजाता व्यक्ति’ चुनाव निशान पर वोट मांग रहे हैं. सत्तारूढ़ दल जदयू की आपत्ति पर चुनाव आयोग ने शिवसेना को तीर धनुष चुनाव चिन्ह देने से पहले ही मना कर दिया था. शिवसेना की तरफ से 3 सिंबल सुझाए गए थे. लेकिन शिवसेना को बिस्कुट चुनाव चिन्ह एलाट किया गया. आपत्ति दर्ज कराने के बाद शिवसेना उम्मीदवारों को ‘तुतारी बजाता व्यक्ति’ चुनाव चिन्ह दिया गया है.

नहीं होगी बड़ी सभा

बिहार चुनाव में शिवसेना उम्मीदवारों के पक्ष में कोई बड़ी सभा नहीं होगी. शिवसेना के राष्ट्रीय संगठक और स्टार प्रचारक विनय शुक्ल ने बताया कि इस चुनाव में पहले वाली बात नहीं है.इस चुनाव में मुंबई के किसी बड़े नेता का फिलहाल कोई कार्यक्रम तय नहीं है. स्टार प्रचारकों में शामिल राष्ट्रीय संगठक अखिलेश तिवारी ने कहा अभी तक बिहार से कोई बुलावा नहीं आया है.जब तक बुलावा नहीं आएगा तक जाने का कार्यक्रम कैसे बनेगा. शिवसेना के एक और स्टार प्रचारक अशोक तिवारी उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ जिले में डेरा जमाए बैठे हैं, जबकि पार्टी के राष्ट्रीय संगठक गुलाब दुबे ने कहा है कि वे मंगलवार को बिहार जाएंगे, जहां गया जिले में पार्टी उम्मीदवार के लिए प्रचार करेंगे.

30 उम्मीदवार होंगे मैदान में

शिवसेना के केंद्रीय नेतृत्व ने निर्देश दिया था कि स्वच्छ छवि वाले व्यक्ति को ही उम्मीदवारी दी जाए. जिसकी वजह से पिछले विधानसभा और लोकसभा चुनाव के उम्मीदवारों को अलग कर दिया गया. जिनको उम्मीदवार घोषित किया गया, स्कूटनी में उनके पर्चे खारिज कर दिए गए. पार्टी का चुनाव चिन्ह विलंब से मिलने के कारण प्रचार सामग्री तैयार करवाने में दिक्कत हुई. इस बार लगभग 30 उम्मीदवार मैदान में होंगे. -कौशलेन्द्र शर्मा, बिहार प्रदेश शिवसेना अध्यक्ष