coronavirus

  • राज्य में 62 और मुंबई में 21 में मिले कोरोना वायरस के दो स्ट्रेन

सूरज पांडे

मुंबई. मुंबई (Mumbai) सहित महाराष्ट्र (Maharashtra) में कोरोना वायरस (Coronavirus) संक्रमण बढ़ने के पीछे का कारण लोगों में पाए जाने वायरस (Virus)के दो नए स्ट्रेन (New Strains) हैं। इसकी पुष्टि भारत सरकार (Indian G overnment) ने की है। राज्य में 62 और मुंबई में 21 लोगों में E484Q And L452R वायरस के स्ट्रेन मिले हैं। एक्सपर्ट्स की माने तो यही कारण है कि वायरस बड़ी तेजी से फैल रहा है और इसे गंभीरता से लेते हुए टेस्टिंग, ट्रेसिंग और ट्रीटमेंट (Testing, Tracing And Treatment) पर जोर देने की जरूरत है।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोरोना से संक्रमित लोगों के जीनोम सिक्वेंसिंग की रिपोर्ट जारी की। रिपोर्ट के तहत 10,787 संक्रमितों का सैंपल देशभर से लिया गया, जिसमें से 771 में वायरस के अलग स्ट्रेन की पुष्टि हुई है, जिसमें यूके, दक्षिण अफ्रीका और ब्राज़ील में पाए जाने वाले वायरस के नए स्ट्रेन मिले है। रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि दिसंबर 2020 की तुलना में वर्तमान में अधिक लोगों में वायरस के अलग-अलग वैरिएंट मिल रहे हैं। 

राज्य से 900 सैंपल भेजे गए

महाराष्ट्र स्वास्थ्य विभाग से प्राप्त जानकारी के अनुसार जीनोम सिक्वेंसिंग के लिए राज्य से 900 सैंपल भेजे गए, जिसमें से 223 सैंपल मुंबई से भेजे गए थे। राज्य के कुल सैंपल में से 56 में यूके, 5 में दक्षिण अफ्रीका और 1 में ब्राज़ील के स्ट्रेन मिला है। मुंबई में भी 21 लोगों में भी अलग-अलग स्ट्रेन मिले है। स्वास्थ्य विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों की माने तो विभिन्न वैरिएंट के वायरस बहुत तेजी से फैलते हैं, लेकिन इससे होने वाली मौत की संख्या कम है, लेकिन हम लापरवाह नहीं हो सकते हैं।

वायरस कर सकता दुबारा अटैक

स्वास्थ्य मंत्रालय और एक्सपर्ट दोनों ने लोगों को सचेत रहने को कहा है क्योंकि वायरस के जो नए स्ट्रेन मिल रहे है वो आपके रोगप्रतिरोधक क्षमता को भेद कर फिर से अटैक कर सकते हैं।

वायरस रूप बदल रहा है इसमें कोई दो राय नहीं है। मामलों में एका-एक वृद्धि होना ये बताता है कि वायरस तेजी से फैल रहा है। मेरे हिसाब से अब लोगों डबल मास्क लगाने की जरूरत है। इसी के साथ क्वारंटाइन के नियमों में सख्ती, टेस्टिंग, ट्रेसिंग, ट्रीटमेंट पर अधिक जोर देने की आवश्यकता है। हो सकता है आनेवाले दिनों में मौत की संख्या में भी इजाफा हो सकता है।

-डॉ. राहुल पंडित, सदस्य, कोविड टास्क फोर्स