bus
Representational Pic

मुंबई. मुंबई में बेस्ट बसों में होने वाली भीड़ से राहत दिलाने के लिए जल्द ही एसटी बसों की तरह ही बेस्ट की बसों को भी पूरी क्षमता के साथ चलाने की अनुमति मिल सकती है. बेस्ट प्रशासन ने राज्य सरकार से इसकी अनुमति मांगी है. इसके अलावा  बेस्ट ने एसटी महामंडल से मुंबई में बेस्ट की सहायता के लिए 250 बसों की मांग की थी जिसे स्वीकार कर लिया गया है. शीघ्र ही एसटी की बसें मुंबईकरों की सेवा में हाजिर होने वाली हैं. यात्रियों की परेशानी को देखते हुए राज्य सरकार ने पिछले सप्ताह एसटी बसों को 100% क्षमता के साथ चलने की अनुमति दी थी जिससे यात्रियों को राहत मिली है. अब बेस्ट को भी 100% क्षमता से चलाने के लिए राज्य सरकार के पास प्रस्ताव भेजा है. 

बेस्ट सूत्रों के अनुसार सरकार अनुमति देती है तो यात्री डबल सीट पर बैठकर यात्रा कर सकते हैं. अभी बेस्ट बसों की दो सीटों में से एक पर ही बैठने की अनुमति है. बेस्ट बस स्टाप पर सवारियों की लंबी कतार लगी रहती है. बस जहां से चलती है वहीं फुल हो जाती है इसलिए बीच के यात्रियों को बस में चढ़ने को ही नहीं मिलता है.

लोकल चलाने की लंबे समय से मांग 

 लोकल में आम जनता को यात्रा करने की अनुमति देने के मूड में अभी सरकार नहीं दिख रही है. लोकल में चलने वाली भीड़ मजबूरी में कई घंटों का सफर कर ऑफिस पहुंच रहे हैं. खासकर वसई- विरार, अंबरनाथ, बदलापुर, टिटवाला,  ठाणे और पनवेल जैसे दूर दराज के यात्रियों के लिए रोज सफर करना मुसीबत बन गया है. उपर से कई जगह बसों को बदलने की अलग परेशानी झेलनी पड़ रही है. लोकल चलाने की लंबे समय से मांग की जा रही है. विरार में यात्रियों ने रेल पटरी को जाम कर अपने गुस्से का इजहार कर चुके हैं. कोरोना वायरस फैलने की आशंका से सरकार अभी लोकल में यात्रा की अनुमति नहीं दे रही है.  8 जून से मिशन बिगेन अगेन के तहत आम जनता को बेस्ट बसों में सफर करने की अनुमति दी गई थी.  1 सितंबर से निजी कार्यालयों में कर्मचारियों की उपस्थिति 15 % से बढ़ा कर 30 % और सरकारी कर्मचारियों की उपस्थिति 20% से बढ़ा कर 30% कर दी गई है. जिससे बसों में भारी भीड़ उमड़ने लगी है.  

250 बसों को किराए पर ले रही है बेस्ट 

बेस्ट के पास 3,560 बसें हैं जिसमें से 3000 बसें रोज  यात्रियों की सेवा में सड़कों पर दौड़ रही हैं. रोजाना बेस्ट बसों में सफर करने वाले यात्रियों की संख्या 16 लाख से भी उपर चली गई है. यह संख्या वह जिन्हें बेस्ट में यात्रा करने का अवसर मिल रहा है. 5-7 लाख यात्रियों को बेस्ट में यात्रा करने का अवसर नहीं मिल रहा है. यात्रियों को गंतव्य तक पहुंचाने के लिए बेस्ट ने एसटी महामंडल की 250 बसों को किराए पर ले रही हैं. 

ड्राइवर और कंडक्टर भी महामंडल का ही 

एसटी महामंडल के जनसंपर्क अधिकारी अभिजीत भोसले  ने बताया कि एसटी की जो बसें बेस्ट की सहायता के लिए भेजी जा रही हैं उनमेंं ड्राइवर और कंडक्टर भी महामंडल का ही रहेगा. बेस्ट से  प्रति किलोमीटर 75 रुपये किराया लिया जाएगा. जिसमें से ईंधन, मेंटीनेंस  ड्राइवर और  कंडक्टर का खर्च दिया जाएगा. एसटी डिपो से बेस्ट बसों को भेजने का निर्देश दिया गया है. जल्द ही बसें मुंबईकरों की सेवा करती दिखेंगी. 

इन डिपों से आएंगी बसें 

  •  नाशिक डिपो 30 बसें
  •  मनमाड डिपो 20 बसेंं
  •  सटाणा  डिपो 25 बसें 
  •  सिन्नर डिपो  30  बसें
  •  इगतपुरी डिपो 20 बसेंं
  •  लासलगांंव डिपो 20 बसेंं
  •  कलवण डिपो 25 बसेंं
  •  पेठ डिपो 15 बसेंं
  •  येवला डिपो 10 बसेंं
  •  पिंपलगांंव डिपो 20 बसेंं
  •  मालेगांंव डिपो 15 बसेंं
  •  नांदगांव डिपो 15 बसेंं