Indian railway

    मुंबई. कोरोना (Corona) की दूसरी लहर (Second Wave) का असर कम होने के बाद लॉकडाउन (Lockdown) में दी जा रही ढील को देखते हुए उत्तर भारत की ओर से आने वाली गाड़ियों में भीड़ बढ़ने लगी है। मुंबई (Mumbai)  व उपनगरों में अब तेजी से प्रवासियों की वापसी हो रही है। 

    कोरोना की दूसरी लहर के चलते अप्रैल में गांव की तरफ पलायन करने वाले लोग अब मुंबई की ओर लौटने लगे हैं। रेलवे के वरिष्ठ अधिकारियों के अनुसार, इस समय यूपी-बिहार (UP-Bihar) जाने वाली रेगुलर  ट्रेनों में भीड़ कम हो गई है, जबकि जो ट्रेनें मई में खाली वापस आ रही थीं, उनमें जून माह में बुकिंग फूल हो गई है। 

    शतप्रतिशत ऑक्युपेन्सी

    बताया गया है कि इस समय यूपी-बिहार की तरफ से आने वाली गाड़ियों में ऑक्युपेन्सी फुल हो गई है। गोरखपुर से एलटीटी आने वाली ट्रेन 05018 में ऑक्युपेन्सी शत प्रतिशत तक हो गई है। यहां तक कि 150 के ऊपर वेटिंग लिस्ट पहुंच गई है। इसी तरह इसी तरह पटना, वाराणसी, जौनपुर, फैजाबाद और अन्य स्थानों से आने वाली  ट्रेनों में भी 100 प्रतिशत ऑक्युपेन्सी हो गई है। बिहार की तरफ से आने वाली गाड़ियों में भी ऑक्यूपेंसी बढ़ गई है। पटना, मुज्जफरपुर इन क्षेत्रों से आने वाली गाड़ियों की ऑक्युपेन्सी भी 95 प्रतिशत हो गई है। वैसे इस समय भी मुंबई, पुणे से अतिरिक्त स्पेशल ट्रेने छोड़ी जा रहीं हैं। वाराणसी, प्रयागराज, लखनऊ से आने वाली रेगुलर ट्रेनों में यात्री बढ़ गए हैं। 

    कन्फर्म टिकट मिलना मुश्किल

    उल्लेखनीय है कि यूपी-बिहार से रोजाना 25 से 28 ट्रेनें मुंबई की ओर आती हैं। अब इन ट्रेनों में कन्फर्म टिकट मिलना मुश्किल हो रहा है। 

    कामकाजी लोगों की वापसी 

    मुंबई व उपनगरों में लाखों की संख्या में उत्तर भारत का कामकाजी वर्ग रहता है। अलग- अलग कारणों से गांव गए लोग अब मुंबई के सुधरते हालात को देखते हुए वापसी कर रहे हैं। मध्य रेलवे के वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार, वैसे भी जून में वापसी की ट्रेनों में भीड़ काफी बढ़ जाती है। सुल्तानपुर से आए भवानी प्रसाद दुबे ने कहा कि उन्हें काफी प्रयास के बाद लखनऊ से ट्रेन कन्फर्म टिकट मिल पाया। बताया गया है कि 25 जून के बाद तक वापसी की ज्यादातर ट्रेनें फुल हैं। अपने परिवार के साथ आजमगढ़ से मुंबई आए रमेश सिंह ने कहा कि मुंबई में स्थिति सामान्य होते देख फिर से लोग वापसी कर रहे हैं। 

    रिजर्वेशन डिब्बे में भीड़ बढ़ी 

    जनरल क्लास का टिकट न मिलने के कारण भी रिजर्वेशन डिब्बे में भीड़ बढ़ी है। कोविड प्रोटोकॉल के अनुसार ट्रेनों में जनरल डिब्बे नहीं हैं। बड़ी संख्या में मजदूर वर्ग के लोग भी वापसी में रिजर्वेशन के लिए भाग दौड़ कर रहे हैं। अब महाराष्ट्र के कई जिलों में स्थिति सामान्य होते देख बड़ी काम के लिए बड़ी संख्या में मजदूरों का बुलावा भी शुरू हो गया है।