Decision on traveling to everyone in local soon: Suresh Kakani

  • अब इसके कर्मचारी 2 शिफ्ट में करेंगे काम
  • लोकल, बस में भीड़ कम करने की कवायद

मुंबई. पश्चिम रेलवे ने अपने कार्यालयीन कर्मचारियों से 2 शिफ्ट में काम कराने का निर्णय लिया है. पश्चिम रेलवे के मुंबई सेंट्रल मंडल में कर्मचारियों के लिए सुबह 8 से दोपहर 2 बजे और दोपहर 2 से रात 8 बजे की शिफ्ट निर्धारित की गई है. बताया गया है कि इससे कर्मचारियों को लोकल से आने में आसानी होगी. 

पश्चिम रेलवे के मुंबई डिविजन में लगभग 22 हजार कर्मचारी कार्यरत है. वैसे अभी भी 30 प्रतिशत तक कर्मचारी रोज ड्यूटी कर रहे हैं.आम यात्रियों के लिए लोकल शुरू होने पर भीड़ कम हो इसके लिए ऑफिस के टाइमिंग में बदलाव की मांग की जा रही है. रेल प्रवासी संघ का कहना है कि अब मुंबई में आम लोगों के लिए लोकल ट्रेन शुरू करनी ही होगी. यदि सरकार लोकल की भीड़ पर नियंत्रण चाहती है, तो उसे कार्यालयों के ड्यूटी समय में बदलाव करना होगा. शिफ्टों में ड्यूटी लगने से लोकल में लोगों की एक साथ ज्यादा भीड़ नहीं होगी.

लोकल में 8 लाख तो बस से 18 लाख यात्री

बताया गया कि इस समय भी मुंबई लोकल से लगभग 8 लाख लोग यात्रा कर रहे हैं, जबकि मुंबई में बेस्ट से 18 लाख लोग इस समय यात्रा कर रहे हैं. सार्वजनिक वाहनों, बेस्ट बसों में सभी सीटों पर यात्री बिठाने की इजाज़त दिए जाने के बावजूद भीड़ बेकाबू हो रही है. लॉकडाउन के पहले मुंबई लोकल से 65 लाख से ज्यादा लोग सफर करते थे. इसके पहले भी मुंबई लोकल की भीड़ कम करने के लिए कार्यालयों, प्रतिष्ठानों के समय में बदलाव की मांग होती रही है. मुंबई रेल प्रवासी संघ के कैलाश वर्मा के अनुसार, ऑफिसों के समय में बदलाव का निर्णय सरकार को लेना चाहिए.

आम लोगों के लिए लोकल चलाना जरूरी 

मुंबई की लाइफ लाइन कही जाने वाली लोकल पिछले लगभग सवा 6 माह से आम यात्रियों के लिए बंद है. इस समय भी मुंबई में कोरोना संक्रमण के बीच कार्यालय, दुकानें और अन्य व्यावसायिक प्रतिष्ठान खोल दिए गए हैं. लोगों को अपने कार्यस्थलों पर आने-जाने में भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. अनलॉक के चलते आम लोगों के लिए लोकल चलाना जरूरी है. नियमित लोकल चलाने का निर्णय राज्य सरकार को जल्द लेना होगा, इसके पहले कार्यालयों के समय और शिफ्ट में परिवर्तन का निर्णय लिया जा सकता है.