पश्चिम रेलवे चलाएगी पार्सल विशेष ट्रेनों की 80 ट्रिप

– अब तक 66 हजार टन माल का परिवहन

मुंबई. कोविड-19 के मद्देनजर पश्चिम रेलवे पार्सल स्पेशल ट्रेनों से देश भर में चिकित्सा उपकरणों,दवाओं, खाद्यान्नों आदि अधिकांश आवश्यक वस्तुओं का परिवहन कर जिम्मेदारी निभा रही है. इसी क्रम में 80 सेवाओं वाली 3 और पार्सल विशेष ट्रेनें बांद्रा टी-लुधियाना, ओखा-गुवाहाटी और पोरबंदर – शालीमार के बीच चलाने का निर्णय लिया गया है.सीपीआरओ रविन्द्र भाकर के अनुसार बांद्रा टर्मिनस-लुधियाना पार्सल स्पेशल ट्रेन (32 ट्रिप) 30 जून से 30 जुलाई के बीच चलेगी.ओखा – गुवाहाटी पार्सल स्पेशल ट्रेन (20 ट्रिप) 1 जुलाई से 2 अगस्त, पोरबंदर – शालीमार पार्सल स्पेशल ट्रेन (28 ट्रिप ) 1 जुलाई से 31 जुलाई तक चलेगी.

 15.58 मिलियन टन सामग्री का परिवहन

सीपीआरओ भाकर ने बताया कि पश्चिम रेलवे द्वारा 15.58 मिलियन टन आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति के लिए मालगाड़ियों के कुल 7506 रेकों का उपयोग किया गया है.पार्सल वैन- रेलवे मिल्क टैंकर (आरएमटी) के 365 मिलेनियम पार्सल रेक देश के विभिन्न भागों में दूध पाउडर, तरल दूध और अन्य सामान्य उपभोक्ता वस्तुओं की मांग के अनुसार आपूर्ति करने के लिए भेजे गए. 27 जून को एक पार्सल विशेष ट्रेन पोरबंदर से शालीमार के लिए रवाना हुई.कुल 364 पार्सल विशेष ट्रेनों के माध्यम से लगभग 66 हजार टन वजन वाली वस्तुओं को पश्चिम रेलवे द्वारा देश के विभिन्न भागों में ले जाया गया है,जिनमें मुख्य रूप से कृषि उत्पाद,दवा,मछली, दूध आदि शामिल हैं. परिवहन से लगभग  21.15 करोड़ की आय हुई है. 

1500 करोड़ का नुक़सान

लॉकडाउन के कारण नियमित यात्री ट्रेनें न चलने से पश्चिम रेलवे को लगभग 1500 करोड़ का नुक़सान हो चुका है. पश्चिम रेलवे ने 372.14 करोड़ से ज्यादा का रिफंड दिया है. 56.95 लाख से ज्यादा यात्रियों ने पूरी पश्चिम रेलवे पर अपने टिकट रद्द कर दिए हैं.