किसानों का आंसू भी ऑनलाइन पोछेंगे क्या? , सीएम से मनसे का सवाल

  • कहा- इस तरह उठ जाएगा 'ठाकरे' नाम से विश्वास

मुंबई. मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के घर से ही काम- काज को लेकर भारतीय जनता पार्टी हमेशा सवाल उठाती रही है. एनसीपी नेता शरद पवार ने भी घर से बाहर निकलने की सलाह दे चुके हैं. अब इस संदर्भ में महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना ने मुख्यमंत्री पर सीधा हमला किया है. मनसे नेता और पूर्व मंत्री बाला नांदगांवकर ने सवाल दागते हुए कहा है कि  मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ऑनलाइन किसानों के आंसू पोछेंगे क्या? मुख्यमंत्री घर से बाहर निकलें किसानों की आर्थिक मदद करें, अन्यथा लोगों का ‘ठाकरे’ नाम से विश्वास उठ जाएगा.

मानसून के आखिरी दौर में बारिश की वजह से राज्य में हाहाकार मचा हुआ है. मध्य महाराष्ट्र, पश्चिम महाराष्ट्र में बारिश की वजह से किसानों की फसल बह गई है.किसानों की दयनीय परिस्थितियों का वीडियो सोशल मीडिया में वायरल हो रहा है. इस कठिन समय में किसानों को सहारा देने की मांग मनसे नेता बाला नांदगांवकर ने की है.

खेत की मेड़ पर पहुंच कर उनका आंसू पोछिए

नांदगांवकर ने ट्वीट कर कहा है कि मुख्यमंत्रीजी घर छोड़िए और बाहर निकलिए. अतिवृष्टि की वजह से किसानों की बेहाल परिस्थिति ऑनलाइन नहीं देखी जा सकती है. खेत की मेड़ पर पहुंच कर उनका आंसू पोछिए, उन्हें तुरंत आर्थिक मदद दीजिए. अन्यथा लोगों का ठाकरे नाम से विश्वास उठ जाएगा.  

खेतों में पानी जमा है

भारी बारिश की वजह से पुणे जिले में 4 जन की और सोलापुर में 14 लोगों की जान गई है. कई जिलों में बाढ़ का पानी लोगों के घरों में घुसा है. खेतों में पानी जमा है. नांदगांवकर ने जालना जिले के एक किसान का वीडियो भी अपने ट्विटर पर शेयर किया है. जिसके कैप्सन में उन्होंने मुख्यमंत्री से सहायता की अपील की है.नांदगांवकर ने यह भी कहा है कि अभी तक आपके खिलाफ सीधी टिप्पणी से बचता रहा हूं, लेकिन किसानों की हालत को देखते हुए घर से बाहर निकलने की बात कहनी पड़ रही है.