यूनिवर्सिटी में काम बंद आंदोलन जारी

  • समन्वय समिति ने कहा- नहीं बनी बात

मुंबई. सोमवार को अपनी विभिन्न प्रलंबित मांगों को लेकर मुंबई यूनिवर्सिटी के अधिकारियों और कर्मचारियों ने काम बंद (लेखनी) आंदोलन किया. समस्या को लेकर उच्च एवं तकनीकी शिक्षा मंत्री उदय सामंत के साथ बैठक भी हुई, लेकिन समन्वय समिति बैठक में नतीजा नहीं निकलने से नाखुश है और आंदोलन जारी रखने का निर्णय लिया है.

गौरतलब है कि मुंबई यूनिवर्सिटी के 3 हजार से अधिक अधिकारियों और अन्य कर्मचारियों को फिलहाल 7वां वेतन लागू नहीं किया गया. शिक्षक, अधिकारियों और अन्य कर्मचारियों की समन्वय समिति ने 7वां वेतन के साथ टाइम बाउंड प्रमोशन की प्रक्रिया को फिर शुरू करने और सप्ताह में 6 के बजाए 5 वर्किंग दिन किए जाने की मांग की. समन्वय समिति के समन्वय दीपक घोने ने कहा कि आज हमारी मंत्री उदय सामंत के साथ चर्चा हुई, लेकिन इस चर्चा की मिनट्स हमें अभी तक प्राप्त नहीं हुई है. 

रिजल्ट देरी से घोषित हो सकते है

सरकार ने 2 से 3 महीने में मांग पूरी करने का आश्वासन दिया है, लेकिन डेढ़ साल बीत चुके हैं और अभी तक 7वां वेतन लागू नहीं किया गया. यूनियन को यह मंजूर नहीं, इसलिए हम आंदोलन जारी रखेंगे. दूसरी ओर मंत्री उदय सामंत ने कहा कि चर्चा सकारात्मक रही है. यदि आंदोलन ज्यादा दिनों तक चला तो इसका परिणाम अंतिम वर्ष की परीक्षा और रिजल्ट पर देखने को मिलेगा. रिजल्ट देरी से घोषित हो सकते है क्योंकि काम ठप पड़ा हुआ है.

पोर्टल पर नहीं करेंगे अपडेट

स्कूल शिक्षा विभाग ने सभी जूनियर कॉलेज के शिक्षकों को उनकी डेली रिपोर्ट सरकार द्वारा बनाए गए एक पोर्टल पर अपडेट करने का आदेश दिया है. महाराष्ट्र जूनियर कॉलेज शिक्षक महासंघ के समंवयक प्रो. मुकुंद आंधलकर ने कहा कि हम पहले से ही कॉलेज को अपनी डेली रिपोर्ट कर रहे हैं. हमारे ऊपर पहले से विभिन्न काम का भार, ऊपर से सरकार अब हमें ही बोल रही है कि डेली रिपोर्ट अपडेट करें. सरकार को कॉलेज के प्रिंसपल से रिपोर्ट लेनी चाहिए हम उन्हें भेज रहे हैं.