devendra-Fadanvis

    मुंबई. पूर्व मुख्यमंत्री एवं विधानसभा में विपक्ष के नेता देवेंद्र फडणवीस (Devendra Fadnavis) एवं उप मुख्यमंत्री अजीत पवार (Ajit Pawar) का पौने दो साल पहले भोर में हुए शपथ ग्रहण की चर्चा अभी भी जारी है। राज्यपाल भगतसिंह कोश्यारी (Governor Bhagat Singh Koshyari) ने दोनों नेताओं को मुख्यमंत्री एवं उपमुख्यमंत्री पद की शपथ दिलाई थी। हालांकि यह सरकार 80 घंटे भी नहीं चल पायी थी। देवेंद्र फडणवीस ने माना है कि एनसीपी (NCP) के साथ सरकार बनाने का फैसला गलत था, लेकिन इसका कोई पछतावा नहीं है।

    पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने एक बेविनार में चर्चा के दौरान कहा कि अजीत पवार के साथ सरकार बनाने का फैसला एक भूल थी, लेकिन जब आपकी पीठ में छुरा भोंका जाता है तो आपको राजनीति में बने रहने के लिए ऐसे फैसले लेने पड़ते हैं। उन्होंने शिवसेना पार्टी अध्यक्ष एवं मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे पर चुनाव पूर्व किए गए गठबंधन तोड़ने का आरोप लगाया।

    हमारे सभी समर्थकों को पसंद नहीं आया था

    पूर्व मुख्यमंत्री फडणवीस ने कहा कि राजनीति में बने रहने के लिए जो आवश्यक होता है, वह करना होता है। जब आपकी पीठ में छुरा भोंका जाता है तो आपको भी करारा जवाब देना पड़ता है। जब सरकार बनाने का मौका आया तो हमने उसे भुनाया। अब मैं यह कह सकता हूं कि उस समय जो हमने किया हमारे सभी समर्थकों को पसंद नहीं आया था। मैं इस बात को लेकर पूरी तरह से सहमत हूं कि ऐसा करने से समर्थकों के बीच मेरी छवि खराब हुई थी। बेहतर होता कि हमने अजीत पवार के साथ मिलकर सरकार नहीं बनाई होती, लेकिन उस समय मैंने सोचा कि यह सही फैसला है।