vijay Wadettivar

नागपुर. पिछले महीने जिले के अनेक क्षेत्रों में आई बाढ में अपना सब कुछ गवा चुके पीड़ितों की सहायता के लिए सरकार ने 162.81 करोड़ रुपये की निधि मंजूर की हैं. मदद व पूनर्वसन मंत्री विजय वडेट्टीवार ने बताया कि नैसर्गिक आपदा में बाधित नागरिकों के मदद के लिए मंत्रिमंडल मान्यता पर सरकार द्वारा यह फैसला लिया गया है.

वडेट्टीवार के लगातार प्रयासों के चलते आपत्ती प्रतिसाद निधि और राज्य शासन की निधि में से नागपुर विभाग के बाढ ग्रस्त जिलों के लिए सहायता निधि मंजूर की गई है. जिले में 30 से 1 सितंबर तक हुई मूसलाधार बारिश और मध्यप्रदेश के डैम से पानी छोड़े जाने के कारण बाढ की स्थिति निर्माण हो गई थी. इस दौरान कई ग्रामिण इलाकों में पानी घुस गया था. बाढ से जनजीवन अस्थव्यस्थ हो गया. इस बाढ में हजारों की संख्या में लोगों को सूरक्षित बाहर निकाला गया, लेकिन बाढ ग्रस्त पीड़ितों को काफी नुकसान छेलना पड़ा.

 

जिले को मिलेगे 45 करोड़ रुपये
मध्य प्रदेश के संजय सरोवर प्रकलप में से पानी छोड़ ने के कारण गोसीखुर्द प्रकल्प के सभी गेट को 5 मीटर तक खोलकर पानी छोड़ा गया. अचानक पानी छोड़ने से भंडारा, गड़चिरोली, चंद्रपुर और नागपुर जिले के कई गांवों में बाढ की स्थिति निर्माण हो गई थी. बाढ के कारण कई गांवों में पानी घुस गया और भारी मात्रा में किसानों की फसल बर्बाद हो गई.

जानकारी मिलते ही विजय वडेट्टीवार ने बाढ ग्रस्त इलाकों का दौरा किया और परिस्थिति का जाएजा लेते हुए मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और उपमुख्यमंत्री अजित पवार से चर्चा कर जल्द से जल्द पीड़ितों के लिए मदद की अपील की. सरकार द्वारा मंजूद की गई 1,62,81,07,000 रुपये को सभी बाढ ग्रस्त जिलों में वितरित किया जाएगा.

इसमें नागपुर जिले के लिए 45,17,79,000 रुपये, वर्धा के लिए 69,00,000 रुपये, भंडारा के लिए 43 करोड़, गड़चिरोली 24 करोड़ और चंद्रपुर जिले में 38 करोड़ रुपये की सहायता की जाएगी. निधि मंजूर होने से पीड़ितों ने राहत की सास ली है