train
File Photo

  • नागपुर डिविजन से चलेगी 14 ट्रेनें

नागपुर. रेलवे बोर्ड ने 200 पैसेंजर ट्रेन, डीईएमयू और एमईएमयूस् को एक्सप्रेस ट्रेनों में अपग्रेड करने का फैसला लिया है. ट्रेनों की स्पीड और स्टोपेज में बदलाव किया जाएगा. पैसेंजर ट्रेनों की औसत स्पीड 35 किमी प्रति घंटा होती है, जिन्हें अपग्रेड कर 60 किमी प्रति घंटा किया जाएगा. इसमें नागपुर डिविजन से 14 ट्रेनों का चलाया जाएगा. नागपुर-इटारसी-नागपुर, इतवारी-टाटानगर-इतवरी, इतवारी-रायपुर-इतवारी, अजनी-काजीपेठ-अजनी, वर्धा-भूसावल-वर्धा समेत 7 जोड़ियां पैसेंजर ट्रेन को एक्सप्रेस में बदला जा सकता है.

60 की स्पीड से चलेंगी ट्रेन
पैसेंजर ट्रेनों को अपग्रेड कर 60 किमी प्रति घंटा किया जाएगा. पैसेंजर ट्रेनों की स्पीड को अपग्रेट करने के लिए रेलवे बोर्ड ने जोन से सुझाव मांगे थे. जोन ने इस पर सुझाव देते हुए कहा कि ट्रेन के रूट में ओने वाले कुछ स्टेशनों पर स्टापेज नहीं देने पर स्पीड को बढ़ाया जा सकता है. वहीं स्टेशनों के पर स्टापेज अवधी में कटौती कर स्पीड को बढ़ाया जा सकता है, लेकिन इस दौरान इस बात का विशेष तौर पैसेजर ट्रेन अपनी स्पीड मेंटेन रख पाए इस बात का विशेष तौर पर ध्यान रखना होगा.

ट्रेनों की गति को बढ़ाने के लिए प्रशासन ने रेलवे ट्रैक की क्षमता को बढ़ाया है. हर वर्ष ट्रेनों के यातायात समय में कटौती लाने के लिए अनेक प्रकार की योजनाओं पर काम किया जाता है. सभी जोन में ट्रेनों को अतिरिक्त समयावधी में चलाया जाता है, जिससे की यातायात के दौरान किसी भी प्रकार की तकनीकि समस्या आने पर निर्धारित समय पर स्टेशन पर पहुंचा जा सके. कई बार एक जोन से दूसरे जोन के बीच 40 से 50 मीनट का समय रखा जाता है.