bird flu
File Photo

  • बर्ड फ्लू नहीं : भूगांवकर

कलमेश्वर. कोरोना महामारी से अभी लोग संभले ही नहीं थे कि बर्ड फ्लू ने पांव पसारने शुरू कर दिए़ इस बीमारी ने अब पक्षियों को निशाना बनाया है. इस कारण अब लोग मांसाहार खासतौर पर चिकन खाने से भी डरने लगे हैं. रविवार को देर रात तथा सोमवार की सुबह तहसील के उबगी ग्राम के रिधा पोल्ट्री फार्म की 265 मुर्गियां मृत पाई जाने से खलबली मच गई. पशु संवर्धन विभाग हरकत में आया. मृत मुर्गियों का निरीक्षण कर उनके सैंपल लेकर जांच के लिए फिलहाल नागपुर की प्रयोगशाला में भेजे है.

इस घटना के बाद कलमेश्वर के लघु पशु चिकित्सालय की सहायक उपायुक्त भूगांवकर घटनास्थल पर पहुंचीं. उन्होंने मुआयना कर बताया कि यहां जो मुर्गियां मरी हैं उनके सैंपल लिए गए हैं. इनमें बर्ड फ्लू के कोई भी लक्षण दिखाई नहीं देते. फिर भी सैंपल नागपुर स्थित महाराजबाग प्रादेशिक पशु रोग अन्वेषण में जांच के लिए भेजे गए हैं और वहां से सैंपल भोपाल जांच के लिए जाएंगे. रिपोर्ट आने के बाद ही सही कारण पता चल पाएगा. फिलहाल तहसील में बर्ड फ्लू ने प्रवेश नहीं किया है. 

उधर पंचायत समिति के डॉ. मालोदे ने सोमवार को उक्त पोल्ट्रियों में जाकर देखने पर कहीं भी बर्ड फ्लू के लक्षण नहीं होने की जानकारी दी. फिलहाल तहसील का पूरा रिकॉर्ड एकत्रित किया जा रहा है. वन परिक्षेत्र अधिकारी नौकरदार ने भी बर्ड फ्लू होने की पुष्टि नहीं की.

तेज आवाज भी हो सकता कारण

सूत्रों से प्राप्त जानकारी अनुसार पोल्ट्री मालिक के किसी रिश्तेदार ने यहां पार्टी की थी, जहां डीजे लगाकर तेज आवाज पर लोग थिरक रहे थे. फार्म के एक शेड के कम्पार्टमेंट में 5,000 व दूसरे में 300 मुर्गियां थीं. तेज आवाज से इन मुर्गियों की मौत होने की भी आशंका जताई जा रही है.