fraud

नागपुर. आरेंज सिटी के सीए रोड़ स्थित पुणे की रेडियंड कैश मैनेजमेंट सर्विसेंस कम्पनी में 3 कर्मचारियों द्वारा लाखों का चुना लगाने का मामला सामने आया है. कम्पनी में कार्यरत 3 कर्मचारियों करीब 39 लाख रुपए की हेराफेरी की गई है. इस घटना से कम्पनी में खलबली मच गई है. हालांकि फरयादी शिवाजी हंबीर पाटील (50) की शिकायत पर लकड़गंज थाने में आरोपी सतीश नारायण कावले, सुमित प्रेमदास गजभिये और रोहित रमेश गणवीर के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज कर जांच की जा रही है.

आडिट में हुआ खुलासा
प्राप्त जानकारी के अनुसार फरियादी शिवाजी की रेडियंड कैश मैनेजमेंट सर्विसेस प्रा.लि. रीजनल आफिस श्रीसदन बिल्डिंग अपोजिट ईरो स्कूल पुणे की कंपनी की शाखा लकड़गंज पुलिस स्टेशन अंतर्गत शॉप नं. एफ 108, खंडवानी आर्केड, आंबेडकर चौक, सीए रोड में भी है. आरोपी सतीश, सुमित और रोहित यह रेडियंड कैश मैनेजमेंट सर्विसेस प्रा.लि. चेन्नई ब्रांच नागपुर में नौकरी करते है. इन तीनों कर्मचारियों पर ग्राहकों से मिलने वाली कैश कंपनी के वोल्ट में जमा करने के बाद, दूसरे दिन वह राशि संबंधित बैंक में जमा करने की जिम्मेदारी है, लेकिन इन तीनों आरोपियों ने ग्राहकों का पैसा कम्पनी के खाते में जमा ही नहीं किये. इसका खुलासा आडिट करने के बाद हुआ.

रजिस्टर में 41.04 लाख की एंन्ट्री, जमा सिर्फ 2 लाख
मामला ऐसा है कि 25 मई को चेन्नई हेड आफिस से फरयादी को एक मेल आया, जिसमें कहा गया कि संबंधित ब्रांच आफिस के तुम्हारे रिकार्ड के मुताबिक वोल्ट में जमा कैश लाइव सीसीटीवी फुटेज मेल द्वारा कम्पनी के मेल पर भेजा जाए. अब तक रिपोर्ट नहीं भेजी जाने पर फरियादी ने स्वयं सतीश कावले को फोन किया तब उसने सीसीटीवी के डीवीआर खराब होने की बात कही. इसकी पूरी जांच करने के बाद उसने कहा कि वोल्ट में कैश कम है. इसके बाद फरियादी ने आरोपी सतीश, सुमित और रोहित से फोन पर पूछताछ की. उनसे चर्चा करने पर फरियादी को संदेह हुआ कि वोल्ट में कैश करीब 1 से डेढ़ वर्ष से कम है.

इसलिए रीजनल हेड सबनीस ने ब्रांच के असिस्टेंट आपरेशन मैनेजर गेश महादेव पोकरकर को वोल्ट के प्रत्यक्ष आडिट करने को कहा. आडिट करने के बाद वोल्ट में 2,02,026 रुपये पाए गए, लेकिन वोल्ट के कैश मूवमेंट रजिस्टर के मुताबिक आरोपी सतीश ने रजिस्टर में वोल्ट में 41,04,639 राही जमा होने की एंन्ट्री कर रखी होने का दिखाई दिया. सतीश ने कंपनी की कैश उसके पास थी तब उसने कंपनी की कैश में से 39,02,613 रुपये की राशि की अफरातफरी कर कंपनी को चूना लगया है.