School Meeting

  • मनपा-जिप की संयुक्त बैठक में दिये गए दिशानिर्देश

नागपुर. सरकार द्वारा 23 नवंबर से 9वीं से 12वीं कक्षा के विद्यार्थियों लिए शालाएं और जूनियर कालेज खोलने के निर्देश के बाद सिटी सहित जिले भर में शालाओं को खोलने का निर्देश दिया गया है. मनपा, जिला परिषद शिक्षा विभाग और शिक्षा उपसंचालक के प्रतिनिधियों की हुई बैठक में सभी संबंधित शालाओं व जूनियर कालेज के मुख्याध्यापकों को वीसी के माध्यम से शाला खोलने के संदर्भ में दिशानिर्देश दिये गए हैं.

सिटी में 593 शालाएं और कनिष्ठ महाविद्यालय हैं जिसमें लगभग 1.32 लाख विद्यार्थीयों को अंग्रेजी, विज्ञान व गणित पढ़ाया जाता है. ये सभी 23 नवंबर से खोल दिये जाएंगे. बैठक में मनपा के अतिरक्त आयुक्त राम जोशी, संजय निपाणे, डा. प्रदीप दासरवार, शिक्षाधिकारी प्रीति मिश्रीकोटकर, जिला परिषद माध्यमिक शाला शिक्षाधिकारी चिंतामण वंजारी, उपसंचालक के प्रतिनिधि श्रीराम चव्हाण, स्वास्थ अधिकारी डा. नरेन्द्र बहिरवार उपस्थित. सभी निजी शालाओं के मुख्याध्यापकों को विडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से संबंधित निर्देश दिये गए.

टीचरों की नि:शुल्क कोविड जांच

अतिरिक्त आयुक्त जोशी ने बताया कि सिटी में 593 शालाओं में 9वीं से 12वी तक पढ़ाई होती है. इन शालाओं के 6252 शिक्षकों की आरटीपीसीआर जांच मनपा के 50 टेस्ट सेंटर और 6 वाक इन सेंटर में नि:शुल्क की जाएगी. उन्होंने बताया कि अब तक सिटी के निजी शालाओं के 30 फीसदी शिक्षकों की कोविड जांच हो चुकी है. शेष की जांच तेजी से करने का निर्देश दिया गया है. वंजारी ने बताया कि दसवीं व बारहवीं की पूरक परीक्षा शुरू हो गई है. इसलिए दसवीं की 7 शालाएं और 12 वीं के 7 जूनियर कालेज पूरक परीक्षा समाप्त होने के बाद शुरू होंगे. 

अपने वाहनों में छोड़ें पालक

शाला में कोविड-19 के संदर्भ में जारी सारे दिशानिर्देशों का पालन करने का निर्देश दिया गया है. बीमार बच्चे को शाला नहीं भेजने की अपील पालकों से की गई है. वहीं शाला शुरू करने के पहले पालकों की सहमति पत्र लेने का निर्देश भी दिया गया है. सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों के चलते पालकों से अपील की गई है कि वे अपने बच्चों को अपने खुद के वाहन से स्कूल छोड़ें वे ले जाएं. स्कूल वैन, आटो जैसे सार्वजनिक वाहनों के उपयोग से सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं हो पाएगा.