Corona Death 01
File Photo

  • 7,460 की जिले में जांच
  • 437 को दी गई छुट्टी

नागपुर. लोगों की लापरवाही और प्रशासन की शिथिलता का ही नतीजा है कि जिले में एक बार फिर कोरोना वायरस अपनी चेन को मजबूत करता जा रहा है. संपर्क में आने वालों की समय पर जांच नहीं होने और लक्षण नहीं दिखाई देने की वजह से ही मरीजों की संख्या में अचानक बढ़ोतरी हो गई है. डाक्टरों के अनुमान के मुताबिक महीने के अंत तक संख्या तेजी से बढ़ सकती है. इस बीच सोमवार को 710 नये पाजिटिव मिलने के साथ ही अब तक जिले में संक्रमितों की संख्या 1,43,843 हो गई है.

पिछले 24 घंटे के भीतर जिले में 7,460 लोगों की जांच की गई. इनमें 710 लोग संक्रमित पाये गये. वहीं 8 मरीजों की मौत के साथ ही अब आंकड़ा 4,283 पर पहुंच गया है. कुल पाजिटिव लोगों में से 641 सिटी के हैं. यानी ग्रामीण की तुलना में सिटी में संक्रमण तेजी से फैल रहा है. इस बीच सोमवार को 437 मरीजों को ठीक होने के बाद छुट्टी दी गई. इस तरह अब तक जिले में 1,33,298 लोगों को छुट्टी मिल चुकी है. फिलहाल जिले में 6,262 एक्टिव केसेस हैं. एक्टिव केसेस बढ़ने के साथ ही अब प्रशासन की भी चिंता बढ़ती जा रही है. यही वजह है कि एक बार फिर से स्कूल-कालेज बंद कर दिये गये हैं. वहीं शनिवार और रविवार को कर्फ्यू की घोषणा की गई है.

अब तक 1,397 को दूसरा डोज

कोरोना वैक्सीन के दूसरे डोज की शुरुआत हो गई है. पहले फेज में स्वास्थ्यकर्मी और फ्रंटलाइन वर्कर को टीका दिया जा रहा है. सोमवार को शहर में 116 और ग्रामीण में 96 प्रतिशत टीकाकरण किया गया. इनमें 2,455 लोगों को पहला और 1,397 को दूसरा डोज दिया गया. शहर और ग्रामीण में कुल 36 केंद्रों पर टीकाकरण किया गया. इनमें ग्रामीण भाग के 17 केंद्रों पर 1,700 में से 1,640 लोगों को यानि 96 प्रतिशत टीकाकरण किया गया. इनमें 361 स्वास्थ्यकर्मियों को पहला और 753 लोगों को दूसरा डोज दिया गया. इसके साथ ही 526 फ्रंटलाइन वर्कर को पहला डोज दिया गया. शहर के 19 केद्रों पर 1,057 स्वास्थ्यकर्मी को पहला और 644 को दूसरा डोज दिया गया. साथ ही 511 फ्रंटलाइन वर्कर को पहला डोज दिया. कुल 116 प्रतिशत टीकाकरण किया गया.