The National Sequence Institute claimed to cure a patient suffering from coronavirus in three days
File Photo

नागपुर. दिवाली से पहले कोरोना के कम होते प्रभाव की वजह से एक ओर जहां प्रशासन ने राहत की सांस ली है, वहीं दूसरी ओर बाजारों में भी चहल-पहल बढ़ने लगी है. जिले में अब रिकवरी रेट 90.04 फीसदी हो गया है. जबकि अस्पतालों में भर्ती कोरोना मरीजों की संख्या 2000 तक हो गई है. उम्मीद है कि माह के अंत तक मरीजों की संख्या और कम होगी.

मार्च से शुरू हुआ कोरोना का प्रकोप अब कम होने लगा है. डाक्टरों का मानना है कि इसी तरह सावधानी और सतर्कता बरती गई तो ‘सेकेंड वेव’ से भी ज्यादा असर नहीं पड़ेगा. लेकिन त्योहारों के सीजन में संयम बरतने की भी अपील की गई है. मंगलवार को जिले में सबसे कम 10 मरीजों की मौत दर्ज की गई. इनमें 3 ग्रामीण और 7 मरीज सिटी के रहे. जबकि 3 मरीज अन्य जिलों के रहे. इस तरह अब तक कुल 2979 मरीजों की मौत हो चुकी है. इनमें 365 मृतक जिले से बाहर के थे. मंगलवार को चौबिस घंटे के भीतर 583 मरीजों को छुट्टी दी गई. इस तरह अब तक 82439 मरीज ठीक हो चुके हैं. जिनका रिकवरी रेट 90.04 फीसदी पहुंच गया है. 

मंगलवार को जिले में कुल 6775 लोगों की जांच की गई. इनमें 427 पाजिटिव पाये गये. इनमें सिटी में 336 और ग्रामीण में 88 मरीजों का समावेश रहा. अब तक ग्रामीण में 19659 और सिटी में 71353 पाजिटिव मिल चुके है. अब तक कुल 574775 लोगों की जांच की जा चुकी है. फिलहाल जिले में 6141 एक्टिव केस है. इनमें 2000 मरीज भर्ती है. मेडिकल और मेयो के कोविड अस्पताल में मरीजों की संख्या कम हुई है. जबकि निजी अस्पतालों में अधिक मरीज भर्ती है. हालांकि कोरोना का प्रकोप कम हो रहा है, लेकिन प्रशासन अभी से ‘सेकेंड वेव’ की संभावना के मद्देनजर तैयारी में जुटा हुआ है. ग्रामीण स्तर पर अभी से पोस्ट कोविड ओपीडी के माध्यम से मरीजों को सुरक्षित किया जा रहा है. 

91559 कुल संक्रमित 

2979 की मौत 

82439 हुये ठीक 

427 मंगलवार को पाजिटिव