Fruit seller beaten to death for non-payment of borrowings

    • यूं दिया वारदात को अंजाम
    • शाम 05.00 बजे किशोर खेलने गया
    • शाम 05.30 बजे उसका अपहरण
    • शाम 06.30 बजे किशोर की मां को फोन आया 
    • फिरौती में चाचा के सिर काटने की मांग की
    • शाम 07.00 बजे सिर कुचलकर ब्लेड से घाव किये
    • रात 01.30 बजे बोरखेड़ी, बुटीबोरी से आरोपी गिरफ्तार

    नागपुर. बदला लेने की नीयत से एक युवक ने अपने पड़ोस में ही रहने वाले 15 वर्षीय किशोर का पहले अपरहण किया. फिर परिजनों को कॉल करके फिरौती में उसके चाचा का सिर काटकर मांगा. इसके बाद आरोपी ने किशोर की निर्ममता से हत्या कर सुनसान इलाके में लाश फेंक दी. किसी फिल्मी कहानी सरीखी लगने वाली यह वारदात शहर के एमआईडीसी थानातंर्गत हुई. शुक्रवार को हुड़ेश्वर खुर्द परिसर में बालक की लाश मिलने से सनसनी फैल गई. गुरुवार शाम को अपहरण और हत्या की घटना को अंजाम दिया गया. लेकिन वह पुलिस से ज्यादा देर बच नहीं सका और उसे देर रात गिरफ्तार कर लिया गया. मृतक का नाम इंदिरा माता नगर निवासी राज उर्फ मंगलू राजकुमार पांडे बताया गया है, जबकि आरोपी का नाम सीआरपीएफ गेट निवासी सूरज रामभुज साहू (20) है. बताया गया कि सूरज एक कॉलेज छात्र है और वह किसी टेक्निकल कोर्स के प्रथम वर्ष में है.

    2 घंटे के अंदर ही हत्या

    मिली जानकारी के अनुसार, राज गुरुवार शाम 5 बजे खेलने के लिए घर से बाहर निकला था. वह सूरज के साथ सीआरपीएफ कैम्प मैदान में क्रिकेट खेलने गया था. जबकि घर वाले सोचते रहे कि राज बाहर खेल रहा है. कुछ देर बाद सूरज अपनी बाइक पर राज को लेकर हुडकेश्वर खुर्द पहुंचा. अंधेरा होने के चलते राज घर लौटने की जिद करने लगा. लेकिन मनोज से बदला लेने का जुनून सूरज पर इस कदर हावी था कि वह मासूम पर रहम बरतने के लिए बिल्कुल तैयार नहीं था. 

    … और मांगा चाचा का सिर

    इसी बीच शाम करीब 6.30 बजे सूरज ने राज की मां गीता को कॉल किया और अपहरण की जानकारी दी. सूरज ने उन्हें कहा कि यदि वह राज को जिंदा देखना चाहती है तो अपने जेठ मनोज पांडे का सिर काटकर उसकी फोटो तुरंत उसे वाट्सएप करे. ऐसा न करने पर वह राज को मार डालेगा. यह सूनकर राज की मां के पैरों तले जमीन खिसक गई. उन्होंने तुरंत राज के पिता और परिवार के अन्य सदस्यों को जानकारी दी. कॉल करने के करीब 15 से 20 मिनट के भीतर ही उसने पत्थर से राज का सिर कुचल दिया. फिर सर्जिकल ब्लेड से राज के हाथ और गला चीर दिया. राज की मौत हो चुकी थी लेकिन सूरज पर गुस्सा सवार था. हत्या के बाद भी वह बार-बार राज के घर कॉल करके वह लगातार धमकियां देता रहा.

    अजीब फिरौती पर पुलिस भी सकते में 

    कॉल आने के बाद गीता ने तुरंत सूरज की मां से उसके बारे में पूछताछ की लेकिन उसने कुछ नहीं बताया. ऐसे में राजकुमार पांडे सीधे एमआईडीसी थाने पहुंचे और राज के अपहरण की शिकायत दर्ज की. साथ ही सूरज की धमकी भी बताई. जानकारी मिलते ही शहर पुलिस आयुक्त अमितेशकुमार, अतिरिक्त पुलिस आयुक्त डॉ. दिलीप झलके, डीसीपी नुरूल हसन भी थाने पहुंचे. पहले अपहरण और फिर चाचा का सिर काटकर फोटो की अजीब मांग से एमआईडीसी पुलिस भी सकते में आ गई. घटना को गंभीरता से लेते पूरा महकमा राज की तलाश में जूट गया. वहीं, आसपास के जिलों की पुलिस को भी सूचित कर दिया गया. तुरंत ही सूरज के मोबाइल फोन की ट्रेसिंग शुरू हो गई. उसकी लोकेशन वर्धा रोड के आसपास दिखाई दे रही थी. देर रात करीब 1.30 बजे उसे बुटीबोरी के पास बोरखेड़ी परिसर से गिरफ्तार कर लिया गया. कुछ ही देर में सूरज ने अपहरण और हत्या की कबूली दे दी. 

    हर हाल में मनोज की मौत चाहता था

    मिली जानकारी के अनुसार, सूरज ने राज की हत्या के पीछे पुलिस को 2 अलग-अलग कहानी बताई है. बताया जा रहा है कि सूरज अपने ही परिसर की एक युवती से प्रेम करता था. इस बात पर मनोज और सूरज में विवाद हुआ था. मनोज ने सूरज की पिटाई भी की थी और युवती से दूर रहने की धमकी दी. कुछ दिन बाद युवती की शादी हो गई. इस कारण सूरज हर हाल में मनोज से बदला लेना चाहता था. वहीं, पूरे मामले में अनैतिक संबंधों की भी चर्चा है.