Abhijeet Wanjari MLC Election

नागपुर. नागपुर संभाग पदवीधर चुनाव में कांग्रेस के अभिजीत वंजारी ने महाविकास आघाड़ी के उम्मीदवार के रूप में भाजपा के संदीप जोशी को 18,910 वोटों से पराजित कर भाजपा की दशकों से कब्जे में रही सीट छीन ली. इस जीत से जहां कांग्रेस-राकां-शिवसेना कार्यकर्ताओं व पदाधिकारियों में जश्न का माहौल है तो भाजपा खेमे में सन्नाटा पसरा हुआ है.

वंजारी ने अपनी जीत का श्रेय महाविकास आघाड़ी के सभी नेताओं, पदाधिकारियों, कार्यकर्ताओं और मतदाताओं को दिया है. 1 दिसंबर को हुई वोटिंग के बाद 3 दिसंबर को मतगणना थी. मानकापुर स्टेडियम में पूरे डेढ़ दिन की काउंटिंग के बाद चुनाव निर्णय अधिकारी डॉ. संजीव कुमार ने शुक्रवार को दोपहर ढाई बजे वंजारी को विजयी घोषित किया.

इस दौरान मंत्री सुनील केदार, सांसद कृपाल तुमाने, विधायक विकास ठाकरे, राजू पारवे, पूर्व मंत्री राजेंद्र मुलक, शिवाजीराव मोघे, सुरेश भोयर भी उपस्थित थे. पहले पसंद के वोटों की गणना में वंजारी 55,947 और संदीप जोशी को 41,540 वोट हासिल हुए थे, जबकि जीत के लिए निर्धारित 60,747 मतों के कोटा की जरूरत थी जिसे किसी ने पूरा नहीं किया. उसके बाद दूसरी पसंद के वोटों की गणना (इलिमेशन राउंड) शुरू की गई और 17वें राउंड में वंजारी ने कोटा पूरा कर लिया. वंजारी को 17वें राउंड तक 61,701 वोट और जोशी को 42,791 वोट हासिल हुए. वहीं तीसरे क्रमांक पर अतुल कुमार खोबरागड़े रहे जिन्हें 12,066 वोट मिले.

पहले ही राउंड से जश्न

गुरुवार को दोपहर साढ़े 3 बजे के करीब पहले राउंड की काउंटिंग शुरू हुई थी. शाम करीब 7 बजे पहले राउंड में वंजारी 4,850 वोटों से आगे रहे. उन्हें 12,617 और जोशी को 7,767 वोट मिले थे. उसके बाद ही वंजारी समर्थक कार्यकर्ताओं में जश्न का माहौल शुरू हो गया. 5 राउंड की गिनती रातभर चलती रही और हर राउंड में वंजारी ही अव्वल नंबर पर रहे व जोशी दूसरे स्थान पर बने रहे. हर राउंड के परिणाम के बाद कांग्रेस व महाविकास आघाड़ी के कार्यकर्ता ढोल-ताशे बजाकर व वंजारी के समर्थन में नारेबाजी कर उत्साह दिखाते रहे. गुलाल भी उड़ाया गया. तीसरे राउंड का परिणाम रात करीब 11 बजे आया और फिर नेता भी मानकापुर स्टेडियम पहुंचने लगे. तीसरे राउंड के बाद वंजारी की जीत निश्चित समझी जाने लगी थी. खुद शहर अध्यक्ष व विधायक विकास ठाकरे भी रात में ही काउंटिंग स्थल पर पहुंचकर कार्यकर्ताओं की खुशी में शामिल हुए. 

11,560 वोट निकले अवैध

इस चुनाव में कुल 1,33,053 मतदाताओं ने वोटिंग की जिसमें से 11,560 मत काउंटिंग के दौरान अवैध ठहरा दिए गए. कुल 1,21,493 वोट वैध रहे. पहली पसंद के वोटों के अंतिम यानी पांचवें राउंड तक वंजारी को 55,947, जोशी को 41,540 वोट हासिल हुए. वहीं राजेंद्र कुमार चौधरी 233, इंजीनियर राहुल वानखेड़े 3,752, एड. सुनीता पाटिल 207, अतुल कुमार खोब्रागडे 8,499, अमित मेश्राम 58, प्रशांत डेकाटे 1,518, नितिन रोंघे 522, नितेश कराले 6,889, डॉ. प्रकाश रामटेके 189, बबन तायवाडे 88, एड. मोहम्मद शाकीर अ. गफ्फार 61, सी.ए. राजेंद्र भूतड़ा 1,537, प्रा.डा. विनोद राऊत 174, एड. वीरेंद्र कुमार जायस्वाल 66, शरद जीवतोड़े 37, प्रा. संगीता बढे 120 और इंजीनियर संजय नासरे को 56 मतों से संतोष करना पड़ा.

जगह-जगह जंगी स्वागत

विजय का जश्न केवल कांग्रेसी खेमे में ही नहीं, बल्कि राकां-शिवसेना ने भी मनाया. वंजारी महाविकास आघड़ी के उम्मीदवार थे और इस बार भाजपा को पराजित करने के लिए तीनों पार्टी के नेताओं व कार्यकर्ताओं ने एकजुट होकर मेहनत की थी. वंजारी की जीत का जश्न केवल सिटी में ही नहीं, बल्कि पूरे जिले में मनाया गया. सिटी में प्रदेश कांग्रेस कमेटी के सचिव गिरीश पांडव के कार्यालय में वंजारी का शानदार स्वागत किया गया. इस दौरान पूर्व मंत्री जिलाध्यक्ष राजेन्द्र मुलक सहित सैकड़ों कार्यकर्ता उपस्थित थे. ढोल-ताशे के साथ झूमते कार्यकर्ताओं ने लड्डू भी बांटे. जमकर आतिशबाजी की गई. 

जिम्मेदारी निभाऊंगा

विजयी उम्मीदवार अभिजीत वंजारी ने कहा कि स्नातक मतदाताओं ने मुझे अपना प्रतिनिधि बनाकर जो जिम्मेदारी सौंपी है, उसे पूरी ईमानदारी से निभाऊंगा. पदवीधरों की समस्याओं, अड़चनों को उच्च सदन में रखकर उनका निराकरण करने का प्रयास करूंगा. उन्होंने सभी मतदाताओं व महाविकास आघाड़ी के वरिष्ठ नेताओं, सहयोगियों, पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं का आभार व्यक्त किया. 

दिल से धन्यवाद…

भाजपा से उम्मीदवार मेयर संदीप जोशी ने अपनी पराजय के बाद भी ट्वीट कर सभी कार्यकर्ताओं व मतदाताओं का आभार माना. उन्होंने कहा कि इस चुनाव में सभी ने जीतोड़ परिश्रम किया. जीत हासिल नहीं हुई इसका दु:ख है, लेकिन कार्यकर्ताओं के परिश्रम के बारे में जितना कहूं वह कम है. उन्होंने सभी को दिल से धन्यवाद व्यक्त करते हुए कहा कि हम हमेशा साथ रहेंगे.