Nitin raut

    • 34 पुस्तकालयों का हो रहा संचालन
    • 77 अध्ययन कक्ष भी चला रही मनपा

    नागपुर. मनपा की ओर से शहर के अलग-अलग हिस्सों में जहां 34 लाइब्रेरी का संचालन किया जा रहा है, वहीं 77 अध्ययन कक्षों को भी नियमित रूप से चलाया जा रहा है. किंतु मनपा की लचर वित्तीय स्थिति के चलते इनका उचित व्यवस्थापन नहीं हो पा रहा है. अत: लाइब्रेरी और अध्ययन कक्ष में नियमित उचित सुविधाएं रखने के लिए तथा उचित व्यवस्थापन की चिंता करने के निर्देश पालक मंत्री नितिन राऊत ने मनपा को दिए. शहर की लाइब्रेरी और अध्ययन कक्ष को लेकर उन्होंने मनपा मुख्यालय में समीक्षा बैठक ली.

    उन्होंने कहा कि मनपा की लाइब्रेरी में गरीब वर्ग के छात्र जाते हैं. उन्हें समय पर सुविधाएं उपलब्ध होनी चाहिए जिसके लिए राज्य सरकार की ओर से अनुदान भी दिया जाता है. सरकार के अनुदान का लाभ इन्हें दिलाने के लिए आवश्यक कार्यवाही गति से करने के निर्देश भी मनपा को दिए. विपक्ष नेता तानाजी वनवे, किशोर जिचकार, पुरूषोत्तम हजारे, जुल्फीकार भुट्टो, परसराम मानवटकर, अति. आयुक्त जलज शर्मा, लीना उपाध्ये आदि उपस्थित थे.

    अनुभवी संस्थाओं को ही दें जिम्मेदारी 

    चर्चा के दौरान मनपा आयुक्त राधाकृष्णन बी. ने कहा कि कुछ लाइब्रेरी और अध्ययन कक्ष का संचालन स्वयं मनपा अपने कर्मचारियों के माध्यम से करती है, जबकि कुछ का संचालन और व्यवस्थापन बचत गट को सौंपा गया है. इस पर पालक मंत्री ने जिन संस्थाओं को इस क्षेत्र का अनुभव हो उन्हें ही जिम्मेदारी सौंपने के निर्देश आयुक्त को दिए.

    पालक मंत्री राऊत ने कहा कि लाइब्रेरी और अध्ययन कक्ष में पेयजल और अन्य भौतिक सुविधाएं उपलब्ध होना जरूरी है जिसके लिए प्रशासन को गंभीरता से ध्यान देना चाहिए. इन्हें सरकारी अनुदान प्राप्त होने से सेवा सुविधाएं देना आसान होगा. अत: प्रस्ताव मिलने पर मुंबई में संबंधित विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक लेकर निर्णय लिया जाएगा. जिससे जल्द से जल्द कार्यवाही करने के निर्देश दिए.

    अत्याधुनिक होगी ई-लाइब्रेरी

    • उत्तर नागपुर में डॉ. राममनोहर लोहिया लाइब्रेरी और बाजीराव साखरे ई-लाइब्रेरी जैसी भव्य इमारतों के साथ लाइब्रेरी तैयार है. इन दोनों को अत्याधुनिक किया जाएगा. 
    • बैठक में इस संदर्भ में प्रस्तुतीकरण भी किया गया. राम मनोहर लोहिया वाचनालय और अध्ययन कक्ष को अत्याधुनिक करते समय यहां पर छात्रों के साथ ही ज्येष्ठ नागरिकों के लिए व छोटे बच्चों के लिए भी व्यवस्था करने, छात्र और छात्राओं के लिए स्वतंत्र कक्ष, सेमिनार के लिए सभागृह और पार्किंग की पर्याप्त जगह उपलब्ध कराने के निर्देश दिए. 
    • बाजीराव साखरे ई-लाइब्रेरी को भी अत्याधुनिक करने की सूचनाएं पालक मंत्री ने दी. इसके अलावा डॉ. बाबासाहब आम्बेडकर संदेश ग्रंथालय, पांचपावली स्थित सिद्धार्थ अध्ययन कक्ष, टेका और पंचशील वाचनालय की दुरुस्ती करने के भी निर्देश दिए. 

    किड्स लाइब्रेरी होगी साकार

    शहर में कुछ वर्षों पूर्व छोटे-छोटे बच्चों के लिए किड्स लाइब्रेरी हुआ करती थी जहां छोटे बच्चों को खिलौने से लेकर कई मनोरंजक पुस्तकें उपलब्ध कराई जाती थीं. इसी तरह की किड्स लाइब्रेरी पुन: सिटी में साकार करने का मानस पालक मंत्री ने जताया. उन्होंने कहा कि अधिक से अधिक बच्चों को इसका लाभ हो सके इस दिशा में जगह का चयन किया जाना चाहिए. किड्स लाइब्रेरी में छोटे बच्चों को खेल से लेकर पढ़ाई तक सभी आवश्यक सुविधाएं दी जानी चाहिए. साथ ही उनके पालकों के लिए भी वहां अध्ययन कक्ष की व्यवस्था करने के निर्देश दिए.