The actual number of known cases of infection from corona may be six times higher: study

नागपुर. जिस तरह कोरोना की मृत्यु संख्या धीरे-धीरे कम हो रही है, उसी तरह संक्रमित मरीजों की संख्या भी कम होना चाहिए. तभी कोरोना पर नियंत्रण माना जाएगा. डाक्टरों का मानना है कि अब भी कई संदिग्ध समय पर जांच और उपचार में देरी कर रहे हैं. इस बीच गुरुवार को 746 नये पाजिटिव मिलने के साथ ही अब तक कुल संक्रमित मरीजों की संख्या 84827 हो गई है. वहीं 20 मरीजों की मौत हो गई. इसके साथ ही अब तक 2724 लोगों की जान चली गई. 

डाक्टरों की माने तो अगले सप्ताह तक जिले में रिकवरी रेट बढ़ सकता है, लेकिन इसके लिए यह भी आवश्यक है कि अधिकाधिक लोग टेस्ट कराए. अब भी कई लोग लक्षण दिखाई देने के बाद भी जांच कराने में टालमटोल कर रहे हैं. यह स्थिति कोरोना पर नियंत्रण में बाधक बन सकती हैं. जितने अधिक लोगों का टेस्ट होगा< बीमारी पर उतनी ही जल्दी नियंत्रण किया जा सकता है. 

डाक्टरों को कुछ राहत 
गुरुवार को जिले के 12 मरीजों की मौत हो गई. जबकि 8 मरीज जिले से बाहर के रहे> हालांकि मृत्यु संख्या कम हो रही है. लेकिन संक्रमित मरीज कम नहीं हो रहे हैं. गुरुवार को ग्रामीण में 175 और सिटी में 563 नये मरीज मिले. गंभीर मरीजों की संख्या अब कम हुई है. यही वजह है कि मेडिकल और मेयो के डाक्टरों ने कुछ हद तक राहत की सांस ली हैं. फिलहाल जिले में 9489 एक्टिव केस है.

इनमें से आधे से अधिक होम आयसोलेशन में इलाज करा रहे है. इस बीच 1012 मरीजों को ठीक होने के बाद छुट्टी दी गई. अब तक जिले में 72614 मरीज ठीक हो चुके है. इस वजह से फिलहाल रिकवरी रेट 85.60 फीसदी तक पहुंच चुका है. अब तक जिले में 499132 लोगों की जांच की गई है. गुरुवार को चौबिस घंटे के भीतर 6165 लोगों की जांच की गई. 

84827 कुल संक्रमित 

2724 की मौत 

72614 हुये ठीक 

746 गुरुवार को पाजिटिव