GMR company issued notice to high court, government issued notice

  • बिना जांच हवाई यात्रा को निरंतर दे रहे अनुमति

नागपुर. शीत लहर के साथ ही कोरोना की दूसरी लहर का खतरा मंडराने के कारण विशेष रूप से दिल्ली, राजस्थान, गुजरात और गोवा जैसे राज्यों से हवाई, रेल या सड़क मार्ग से आनेवाले यात्रियों की पहले जांच करने तथा निगेटिव आने के बाद ही उन्हें आगे की यात्रा के लिए मंजूरी देने के कड़े निर्देश राज्य सरकार की ओर से जारी किए गए हैं. आदेश जारी करने को भले ही एक सप्ताह से अधिक का समय बीत गया हो, लेकिन विशेष रूप से एयरपोर्ट अथॉरिटी द्वारा इन नियमों का उल्लंघन होते दिखाई दे रहा है. इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि दिल्ली और अन्य जगहों से आनेवाले यात्रियों की जांच नहीं होने से नागपुर हवाई अड्डे पर उनकी जांच की जा रही है, जिनमें कुछ यात्री निरंतर पॉजिटिव भी पाए जा रहे हैं.

फिर 79 यात्री बिना जांच पहुंचे

उल्लेखनीय है कि नागपुर हवाई अड्डे पर आए अहमदाबाद के विमान के यात्रियों का कोरोना टेस्ट तो कराया गया था. किंतु दिल्ली से आए 3 हवाई जहाजों में के 79 यात्रियों की जांच नहीं कराई गई थी, जिससे नागपुर एयरपोर्ट पर नियुक्ति की गई कोरोना जांच एजेन्सी के माध्यम से इन 79 यात्रियों की जांच कराई गई, जिनमें से अकोला निवासी एक यात्री पॉजिटिव पाया गया है. इसके पूर्व भी दिल्ली से आई उड़ानों में कई यात्री कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे. साथ ही कई यात्रियों की कोरोना जांच नहीं होने का मामला भी उजागर हुआ. 

विधायक निवास का फिर कोविड सेंटर में होगा परिवर्तन

सूत्रों के अनुसार कोरोना मरीजों की संख्या में कमी आने के बाद मनपा की ओर से कुछ कोविड केयर सेंटर्स को बंद कर दिया गया था, जिनमें विधायक निवास का भी समावेश था. किंतु अब ठंड के बढ़ने के साथ ही कोरोना मरीजों की संख्या में लगातार होती वृद्धि को देखते हुए किसी भी स्थिति से निपटने के उद्देश्य से विधायक निवास को फिर सीसीसी में परिवर्तित करने की दिशा में कार्य किया जा रहा है. सूत्रों के अनुसार वर्तमान में कोरोना से बाधित मरीज घरों में ही क्वारंटाइन होकर इलाज कराने की मानसिकता में दिखाई दे रहे हैं. यही कारण है कि भले ही कोरोना मरीजों की संख्या में वृद्धि हो रही हो, लेकिन पांचपावली क्वारंटाइन सेंटर और वीएनआईटी क्वारंटाइन सेंटर खाली पड़े हैं.

स्टेशन पर 998 यात्रियों की स्क्रिनिंग

कोरोना की दूसरी लहर से निपटने के लिए जिला प्रशासन और स्थानिय प्रशासन की ओर से पुख्ता इंतजाम किए हैं. इसका अंदाजा भी इसी से लगाया जा सकता है कि एयरपोर्ट, सड़क सीमा और रेलवे स्टेशन पर सतर्कता के निर्देश जारी कर दिए गए. यहां तक कि स्टेशन पर बाहर से आनेवाले और बाहर जानेवालों की स्क्रिनिंग की व्यवस्था भी कराई गई. स्टेशन पर 998 यात्रियों की स्क्रिनिंग कराई गई, जिसमें कोई भी पॉजिटिव नहीं पाया गया.