परी संस्था की ओर से एक अनोखी पहल
परी संस्था की ओर से एक अनोखी पहल

     नागपुर : संसार का एक हिस्सा होते हुए हमारी पर्यावरण( Environment) के प्रति अनेक जिम्मेदारियां (Responsibility) है, साथ ही समाज में रहते हुए हमारे कुछ कर्तव्य है, इन दोनों जिम्मेदारियों का पालन करते हुए परी (People Always Republican And Independent)यह संस्था पिछले कुछ दिनों से नागपुर स्थित शुक्रवारी तलाव को जलप्रदूषण होने से बचाने के लिए एक अनोखी पहल अपनाकर काम कर रहे है साथ ही मानवता के प्रति उदारतावादी होते हुए लोगो की भूख मिटा रहे है। तो लए चलिए जानते है इस अनोखी पहल के बारे में…. 

    शुक्रवारी तलाव इस परिसर में स्थित महाविद्यालय में पढ़ने वालें छात्राओं का यह एक समूह है जो परी (पीपल ऑलवेज रिपब्लिकन एंड इंडिपेंडेंट) (द ग्रुप ऑफ़ यंग्सटर्स) यह संस्था चलाती हैं। इन छात्राओं के ध्यान में आया की मछलियो को खाना देने के लिए परिसर के नागरिक पाव(Bread) खरीद कर ज्यादा मात्रा में तालाब में डालते है।

    मछलियों  के खाने के बाद भी काफी तादाद में पाव पानी के ऊपर तैरता रहता है और फफूंद (Fungus) लग जाता है।इतने ज्यादा तादाद में पाव तालाब में न डालते हुए इससे ही थोडा पाव बचाकर हम भूखे लोगों की भूख मिटा सकते हैं। यह विचार इन छात्रों को आया और वही से शुरू हुई जल प्रदूषण से तालाब को बचाने की साथ ही भुखों को खाना खिलाने की मुहिम शुरू हुई। बचा हुआ पाव हमें दो ऐसे सन्देश के साथ बड़ा सा डब्बा रखकर पाव जमा के बाद गरीब भूखों को वह पाव का वितरण करते है। पर्यावरण प्रेमी और समाज के लिए एक बेहतर नागरिक कैसे हो इसका यह एक नायाब उदाहरण यह संस्था है।