Police Constable on Car

  • बोनट पर 500 मी. घिसटता गया कांस्टेबल

नागपुर. सक्कदरा चौक पर उस समय हड़कंप मच गया जब ब्लैक फिल्म वाली गाड़ी को रोकने गए हेड कांस्टेबल पर कार चालक ने गाड़ी चढ़ा दी. उसने कांस्टेबल को कार से उड़ाने का प्रयास किया. अपनी जान बचाने के लिए कांस्टेबल ने बोनट पर छलांग लगा दी वरना कार के नीचे कुचला जाता. इतने पर भी कार चालक रुका नहीं. वह कार के बोनट पर ही उसको 500 मीटर तक घसीटता ले गया. इस दौरान कार चालक ने अन्य वाहनों को टक्कर भी मारी. एक जगह मौका मिलते ही कांस्टेबल ने कार से छलांग लगाकर अपनी जान बचाई. बताया जाता है कि कार चलाने वाला युवक चर्चित अपराधी आकाश चव्हाण है. वह शेखू गैंग का सदस्य है और मोका में आरोपी भी रह चुका है. रविवार रात सक्करदरा पुलिस ने आकाश को हिरासत में ले लिया. हादसे का शिकार हुए हेड कांस्टेबल अमोल चिद्दमवार सक्करदरा ट्रैफिक जोन में कार्यरत हैं.

चल रही थी ब्लैक फिल्म पर कार्रवाई 

अमोल अपने साथियों के साथ सक्करदरा चौक पर ब्लैक फिल्म वाहनों के खिलाफ कार्रवाई कर रहे थे. सुबह सक्करदरा से कार क्रमाक एमएच 31 डीवी 3222 बुधवारी बाजार की ओर जा रही थी. कार के शीशों पर काली फिल्म चढ़ी होने के कारण कार्रवाई के तहत उसे रोका गया. पुलिस को देखकर पहले आरोपी ने कार की गति धीमी करते हुए साइड में लेने का नाटक किया, लेकिन जैसे ही पुलिसकर्मी सड़क से साइड में हुआ, भागने के फिराक में उसने अचानक गाड़ी की स्पीड बढ़ा दी और अमोल को उड़ाने का प्रयास किया. स्वयं को बचाने के लिए अमोल ने कार पर ही छलांग लगा दी और बोनट को पकड़ लिया. 

महिला के वाहन को भी मारी टक्कर

आरोपी उन्हें करीब 500 मीटर तक घसीटते हुए ले गया. इस दौरान उसने कांस्टेबल को नीचे गिराने के लिए स्पीड में दायें-बायें गाड़ी मोड़ी लेकिन अमोल ने बोनट को कसकर पकड़ रखा था. आरोपी यहीं नहीं रुका अमोल को नीचे गिराने के लिए उसने सिग्नल पर खड़ी एक महिला की गाड़ी को टक्कर मारी और आगे बढ़ते हुए किराना दूकान के बोर्ड को भी टक्कर मारकर गाड़ी के नीचे गिराने का प्रयास किया. कुछ दूरी के अंतर पर मौका देखते ही अमोल ने चलती गाड़ी से कूदकर अपनी जान बचाई. आरोपी मौके से फरार हो गया. कार में आरोपी के साथ एक युवती भी बैठी थी. घटना के बाद स्थानीय लोगों और अन्य पुलिसकर्मियों ने अमोल को उठाकर प्राथमिक उपचार के लिए मेडिकल रवाना किया. पुलिस ने तुरंत अन्य साथियों को घटना की जानकारी देकर कार को रोक लिया. घटना की जानकारी मिलने के बाद ट्रैफिक डीसीपी संजय आवाड़ भी थाने पहुंचे.