Petrol is being given free at this petrol pump, just to say this...
File Photo

    नागपुर. लकड़गंज के ओल्ड बगड़गंज परिसर में शनिवार की दोपहर सनसनीखेज वारदात हुई. 2 अपराधियों ने मामूली बहस के बाद पेट्रोल पंप में आग लगाने का प्रयास किया. समय रहते पंप के कर्मचारियों ने आग बुझा दी वरना बड़ा हादसा हो सकता था. कुछ समय के लिए कर्मचारियों के भी रोंगटे खड़े हो गए थे. पुलिस ने दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है. पकड़े गए आरोपियों में जयभीम चौक, हिवरीनगर निवासी सूरज रमेश डहाके (23) और शास्त्रीनगर निवासी ओंकार भाऊराव टाले (44) का समावेश है.

    पुलिस ने ओल्ड बगड़गंज परिसर में राजलक्ष्मी पेट्रोलियम एंजेंसी द्वारा संचालित भारत पेट्रोल पंप के कर्मचारी स्वप्निल कुंभारे (33) की शिकायत पर मामला दर्ज किया है. जानकारी के अनुसार शनिवार की दोपहर 2.30 बजे के दौरान दोनों आरोपी मोटरसाइकिल क्र. एम.एच.49-बी.एच.1021 पर पेट्रोल भरवाने आए. सूरज ने मास्क नहीं पहना था. ऊपर से मशीन के सामने खर्रा खाकर थूक दिया. स्वप्निल ने उसे फटकार लगाई.

    पेट्रोल से भरी कांच की बोतल आग लगाकर फेंकी

    पहले तो दोनों ने 60 रुपये का पेट्रोल भरने को कहा. लेकिन बाद में केवल 40 रुपये देने लगे. स्वप्निल का उनसे विवाद हो गया. आरोपियों ने स्वप्निल के मुंह पर नोट फेंके और हाथापायी पर उतारू हो गए. सहकर्मियों ने बीचबचाव कर झगड़ा शांत किया. दोनों आरोपी वहां से निकल गए. करीब 1 घंटे के बाद दोबारा दोनों बाइक पर आए. इस समय उनके हाथ में पेट्रोल से भरी कांच की बोतल थी. उस पर कपड़े की बाती लगी हुई थी.

    आरोपियों ने बाती में आग लगा कर पंप की मशीन पर बोतल फेंकी. बोतल फूटते ही आग भड़की. कर्मचारियों ने फायर एक्सटिंग्युशर की मदद से तुरंत आग बुझाई. बिना समय गंवाए कर्मचारियों ने दौड़कर दोनों को दबोच लिया. घटना की जानकारी पुलिस को दी गई. पुलिस ने विविध धाराओं के तहत मामला दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार कर लिया. सूरज ने वर्ष 2017 में हत्या को अंजाम दिया था. तब से दादागिरी करते घूमता है.