Corona Patient
File Photo

नागपुर. नागपुर महानगरपालिका की कोरोना रिपोर्ट और जिला शल्य चिकित्सक कार्यालय की रिपोर्ट में मरीजों की संख्या अलग-अलग दिखाई जा रही जा रही है. यह विषय ध्यान में लाए जाने के बाद अब जिला शल्य चिकित्सक कार्यालय का आंकड़ा 16 नवंबर को मेडिकल में 107 रोगी भर्ती होने का दिखाया गया है और 17 नवंबर को यह संख्या 214 दिखाई गई. इस कारण भर्ती को लेकर इन संख्याओं में गड़बड़ी दिखाई दे रही है.

शुरुआत में महानगरपालिका और जिला शल्य चिकित्सक कार्यालय की रिपोर्ट में कोविड बाधितों के एक बराबर आ रहे थे परंतु बाद में जिला शल्य चिकित्सक कार्यालय की रिपोर्ट जल्दी बन जाने और महानगरपालिका की रिपोर्ट रात देर रात बाधितों को दर्ज करने के बाद आने के कारण दोनों के आंकड़ों में अंतर आ गया. बाद में दोनों संस्थाओं ने एक साथ बैठक कर इस पर विशिष्ठ रिपोर्ट फारमेट बनाने का फैसला लिया परंतु महानगर पालिका की सीमा में बहुत सारे आंकड़े ऐसे थे जो जिला शल्य चिकित्सक की रिपोर्ट में न आने से दोनों रिपोर्ट में शहर के बाधितों व मृत्यु में हजार की संख्या तक का फर्क आ गया.

यह मामला राज्य के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे द्वारा ली गई बैठक में सामने आया. यह मामला सामने आने पर अधिकारियों ने इसमें सुधार किया, परंतु इस बात को कुछ ही दिन बीते हैं फिर से जिला शल्य चिकित्सक कार्यालय की रिपोर्ट में भर्ती मरीजों की संख्या को लेकर फिर से गड़बड़ी दिखाई दी. इससे संबंधित अधिकारियों की कार्यप्रणाली पर गंभीर प्रश्न चिन्ह खड़ा हो गया है.

शासकीय अस्पताल में भर्ती की संख्या घटी

जिले में मंगलवार को 3,094 सक्रिय कोरोना बाधित मरीजों की संख्या दर्ज की गई. इसमें से 2,541 रोगी शहर के और 553 रोगी ग्रामीण क्षेत्र के हैं. इनमें से 848 रोगियों का विभिन्न अस्पतालों में उपचार चल रहा है. इसमें से केवल 288 रोगी मेडिकल, मेयो व एम्स में तथा 30 से 40 रोगी महानगरपालिका के अनेक विभिन्न अस्पतालों में और अन्य ग्रामीण रुग्णालय में उपचार ले रहे हैं.

हाईरिस्क मरीज ही अस्पतालों में 

जिले में होम क्वारंटाइन किए गए बिना लक्षण वाले मरीजों को छोड़कर सौम्य लक्षण वाले रोगियों का उपचार शुरू किया गया है. अब हाईरिस्क और अति गंभीर रोगियों को छोड़कर अन्य रोगियों को अस्पतालों में उपचार के लिए भर्ती नहीं किया जा रहा है. इस कारण अस्पतालों में भर्ती कोरोना बाधित मरीजों की संख्या काफी कम हुई है.

17 नवंबर को भर्ती मरीजों की संख्या

मेडिकल- २१४

मेयो- ४3

एम्स- 3१

इंदिरा गांधी रुग्णालय- १०

आइसोलेशन हॉस्पिटल- २