स्वच्छता रैंकिंग के टाप-10 पर लाएं शहर

  • मनपा आयुक्त ने सफाई कर्मचारियों से की अपील

नागपुर. सिटी को 2020-21 के स्वच्छता सर्वेक्षण की रैंकिंग में टॉप-10 लाने का सभी को प्रयास करने की आवश्यकता है. किंतु इसके लिए फील्ड पर कार्य करनेवाले सफाई कर्मचारियों की सबसे बड़ी जिम्मेदारी है. यदि सफाई कर्मचारियों ने अपने प्रामाणिकता से अपने कर्तव्यों का पालन किया तो शहर पहले नंबर पर आने की आशा मनपा आयुक्त राधाकृष्णन.बी ने जताई. गुरुवार को मनपा की ओर से उत्कृष्ट कामगार सत्कार समारोह का आयोजन किया गया. सतरंजीपुरा जोन में हुए कार्यक्रम में घनकचरा व्यवस्थापन विभाग के प्रभाग 5,20 और 21 के सफाई कर्मचारियों में से नीलम तांबे, सागर सिपाई और पूनम हजारे को उत्कृष्ट कामगार के पुरस्कार से सम्मानित किया गया. घनकचरा व्यवस्थापन प्रदीप दासरवार, जोन के सहायक आयुक्त विजय हुमने उपस्थित थे.

58 से 18 पर पहुंची है मनपा

आयुक्त ने कहा कि शहर को स्वच्छ रखने के लिए गीला और सूखा कचरा अलग-अलग करना जरूरी है. जनता में जनजागृति करने और कचरे के विलगीकरण के लिए अलग-अलग डस्टबिन रखने को लेकर जनता को प्रोत्साहित किया जाना चाहिए. इसे मनपा की जिम्मेदारी करार देते हुए उन्होंने कहा कि स्वच्छता की दिशा में मनपा की कार्यप्रणाली में काफी सुधार हुआ है. कुछ समय पहले तक मनपा की रैंकिंग 58 थी, जो अब 18 हुई है. सभी के प्रयासों से अब टॉप-10 में लाना है. स्वच्छता के कार्य वर्षभर करने के बाद जनता से भी प्रतिसाद मिलने की आशा उन्होंने जताई.

सफाई कर्मचारियों की समस्याएं होंगी हल

मनपा आयुक्त ने कहा कि वर्तमान में भले ही केवल 3 कर्मचारियों को उत्कृष्ट कामगार का पुरस्कार देकर सत्कार किया गया हो, लेकिन भविष्य में अगले वर्ष सभी का सत्कार किया जाएगा. इसके लिए सभी सफाई कर्मचारियों ने प्रयास भी करने चाहिए. उन्होंने कहा कि स्वच्छता को प्राथमिकता देते हुए एवजदारों को नियमित करने की प्रक्रिया भी पूरी की जा रही है. इसके अलावा सफाई कर्मचारियों की विभिन्न समस्याओं को हल करने की दिशा में भी प्रशासन अग्रसर है. मनपा के अतिरिक्त आयुक्त संजय निपाने ने भी सफाई कर्मचारियों को मार्गदर्शन किया.