File Photo
File Photo

    • चाकू और मोबाइल जब्त

    नागपुर. शिवनाथ एक्सप्रेस से उतरे यात्री से लूट के मामले में लोहमार्ग पुलिस इतवारी ने 5.30 घंटे के भीतर दोनों आरोपियों को धर दबोचा. इस तेजतर्रार कामगिरी में एक आरोपी के भूरे बाल और दूसरे के कान में बाली की पहचान से जीआरपी ने पूरे केस हल कर दिया. आरोपियों के नाम गुप्तानगर निवासी राहुल हाटेवार (25) और राम मंदिर क्षेत्र निवासी नरेन्द्र उर्फ बाली बोकडे (20) बताये गये है. उनके पास से एक धारदार हथियार और यात्री से लूटा गया 12,500 रुपये कीमत का मोबाइल भी जब्त किया गया. 

    नशेड़ियों पर रखी नजर

    प्राप्त जानकारी के अनुसार बुधवार दोपहर एक व्यक्ति इतवारी स्टेशन पर जीआरपी थाने आकर शिकायत दर्ज कराई कि एक दिन पहले सुबह 4.30 बजे शिवनाथ एक्सप्रेस से उतरने के बाद 2 आरोपियों उसे पुल के नीचे ले जाकर बुरी तरह पीटा और चाकू की नोक पर मोबाइल छीन लिया. साथ ही किसी को बताने पर जान से मारने की धमकी दी.

    इसी डर से वह पहले शिकायत नहीं कर सका था. आरोपियों का हुलिया पूछने पर यात्री ने एक के बाल भुरे होना बताया. जबकि दूसरे लुटेरे के कान में काले रंग की बाली थी. साथ ही एक आरोपी गांजे के नशे में लग रहा था. इसके बाद एपीआई शेख ने पूरी टीम को काम पर लगाकर नशेड़ियों पर नजर रखने को कहा.

    1 बजे शिकायत दर्ज, 6.30 बजे गिरफ्तारी

    उक्त यात्री ने दोपहर 1 बजे जीआरपी थाने में शिकायत दर्ज कराई थी और शाम 6.30 बजे तक दोनों आरोपी थाने ला लिये गये. जीआरपी की टीम ने क्षेत्र में नशेड़ियों के अड्डे पर अपने पंटर लगा दिये. उन्हें भूरे बाल और कान में बाली वाले लड़कों पर नजर रखने को कहा. इसी बीच एक पंटर ने गुप्तानगर में रहने वाले राहुल के बारे में बताया जिसके बाल भूरे रंग से कलर किये हुए है. वह अक्सर नशा करने इतवारी स्टेशन के आसपास ही आता है.

    जानकारी मिलते ही जीआरपी टीम ने गुप्तानगर से राहुल को धरदबोचा. उसने अपने कान में बाली वाले अपने दूसरे साथी नरेन्द्र के बारे में बताया. नरेन्द्र को भी राम मंदिर क्षेत्र से गिरफ्तार कर लिया. कड़ी पूछताछ के बाद दोनों की निशानदेही पर लूट में उपयोग किये गये चाकू और मोबाइल भी बरामद कर लिया गया. यह कार्रवाई जीआरपी केप पुलिस अधीक्षक एम. राजकुमार और एपीआई शेख के मार्गदर्शन में एपीआई वरठे, विजय सुरडे, ननावरे, अवताडे के अलावा एलसीबी के सहारे और आरपीएफ के विवेक कनौजिया ने की.

    जानते थे कि CCTV कैमरे बंद है

    खास बात रही कि आरोपियों को पता था कि इतवारी स्टेशन के सीसीटीवी कैमरे 3 महीनों से बंद है. पूछताछ के दौरान आरोपियों को कहा गया कि सीसीटीवी कैमरे में तुम्हारी वारदात कैद है तो एक आरोपी ने कहा-‘जाने न दो साहब, सीसीटीवी कैमरे तो 3 महीनों से बंद है.’ आरोपियों के मुंह से यह बात सुनकर पूछताछ कर रहे जीआरपी अधिकारी भी हैरान रह गये. ऐसी स्थिति में सिर्फ साढ़े 5 घंटे में लूट के आरोपियों को गिरफ्तार करना इतवारी जीआरपी की एक और बड़ी कामगिरी है.