gutter, Sevage water, nagpur

  • मनपा का लापरवाही भरा रवैया, बीमारियों का खतरा

नागपुर. एक ओर शहर पर कोरोना संक्रमण का खतरा अब भी बना हुआ है, दूसरी तरफ महानगरपालिका के कारण नागरिक को गंदगी से पटे माहौल में रहने को मजबूर हैं. धरमपेठ स्थित यशोधाम इमारत में कई दिनों से गटर लाइन चोक हो गई है. इससे पूरा गंदा पानी बाहर आकर फैल गया है और जहां-तहां जमा हो रहा है. स्थानीय निवासी डॉ. यश पिसे ने बताया कि पिछले कई दिनों से यह स्थिति है. कई बार मनपा में इस बारे में शिकायत की गई. चोक हो चुकी गटर लाइन को सुधारने की अपील की गई लेकिन आज तक किसी के कान पर जूं तक नहीं रेंगी. 

घरों से निकलना मुश्किल

उन्होंने कहा कि गटर लाइन चोक होने से हमें काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. यह हमारे स्वास्थ्य के लिए खतरनाक है. गंदा पानी भरा होने के कारण हम अपने-अपने घरों से बाहर नहीं निकल पा रहे हैं. सब कुछ फिसलन भरा है. गंध असहनीय है. हम कई एनएमसी अधिकारियों के संपर्क में रहे हैं लेकिन कुछ नहीं हो रहा है. इस बात को करीब 2 महीने हो चुके हैं. बावजूद इसके अभी तक कोई सुधार कार्य नहीं किया गया और हमें नरक जैसी स्थिति में रहना पड़ रहा है. 

बीमारी का खतरा

डॉ. पिसे ने कहा कि इस इमारत और परिसर में 5 सीनियर सिटीजन हैं. वहीं 7 लोग हाल ही में कोरोना संक्रमण से उबरे हैं. यहां बच्चे भी हैं. एक ओर कोरोना संक्रमण और दूसरी ओर ये गंदा पानी. ऐसे में इमारत में रहने वाले नागरिकों कर एक नहीं कई बीमारियों का खतरा मंडरा रहा है. सभी के लिए एक गंभीर स्वास्थ्य खतरा मंडरा है. हमारा सवाल है कि क्या मनपा प्रशासन चोक हो चुकी गटर लाइन का सुधार कार्य करने के लिए हममें से किसी की जान जाने का इंतजार कर रहा है.