Bus accident in Pakistan, 13 killed including 9 Chinese nationals, China called the accident an attack

    नागपुर. इन दिनों शहर की सुंदरता अपने बुरे दिन देख रही है. कहीं गदंगी और कचरे का ढेर लगा हुआ तो कहीं डिवाइडरों पर झाड़ियां फैली हुई हैं. अजनी रेलवे पुल के पास बने चौराहे पर ऐसा ही नजारा है जहां अजनी चौक और वर्धा रोड को जोड़ने वाली सड़क के डिवाइडर पर झाड़ियां इतनी फैल गई हैं कि दूसरी तरफ से आने वाले वाहन ही दिखाई नहीं देते और हर समय दुर्घटना की संभावना बनी रहती है.

    चारों ओर से तेज ट्रैफिक

    इस चौराहे पर चारों तरफ से ही पूरा दिन तेज ट्रैफिक रहता है. एक ओर जहां अजनी स्टेशन, शिवाजी साइंस कॉलेज और धंतोली से आने वाले वाहन तो वहीं वर्धा रोड से पूर्व और मध्य नागपुर की ओर जाने वाले वाहनों की आवाजाही लगी रहती है. इसी प्रकार मेडिकल और अजनी रेलवे कॉलोनी की ओर से वर्धा रोड और धंतोली, सीताबर्डी की ओर जाने वाले वाहनों की कतार लगी रहती है.

    डिवाइडर पर बढ़ीं झाड़ियों के कारण वर्धा रोड से मेडिकल-एफसीआई गोडाउन की ओर जाने पर एफसीआई की ओर से वाहन से आने पर वाहन दिखाई नहीं  देते. कई बार दोपहिया वाहनों और चारपहिया वाहन आमने-सामने आ जाते हैं और भिड़ंत की स्थिति बन जाती है. दिन में कई बार ऐसी स्थिति बनती है.

    बसों की आवाजाही बढ़ाती है खतरा

    ज्ञात हो कि रहाटे कॉलोनी में प्राइवेट बसों का जमावड़ा रोकने के लिए शहर ट्रैफिक विभाग ने सभी बसों की आवाजाही इसी रास्ते से शुरू कर करवा दी है. ऐसे में पूरा दिन यहां से एसटी और प्राइवेट बसों की आवाजाही लगी रहती है. अजनी स्टेशन से आने वाली बसें तो चौराहे के रास्तों से दिख जाती हैं लेकिन वर्धा रोड से अजनी स्टेशन की ओर मुड़ने वाली बसें इन झाड़ियों के कारण एफसीआई की ओर से आने वाहन चालकों को दिखाई नहीं देतीं. ऐसा ही हाल अन्य छोटे-बड़े वाहनों का भी रहता है.

    कितनी दुर्घटनाओं का इंतजार

    कुछ दिन पहले इसी चौराहे पर एक कार को दोपहिया वाहन चालक की जोरदार टक्कर लग गई थी. कार चालक जेल चौक से मेडिकल की ओर जा रहा था. डिवाइडर के मुहाने पर ही जोरदार टक्कर हो गई और कार के सामने का हिस्सा पूरी तरह टूट गया. वहीं बाइक चालक भी चोटिल हुआ. दिन में कई बार ऐसा नजारा दिखता है जब वाहन आमने-सामने से टकराने से बच जाते हैं.

    इन दिनों यहां कोई ट्रैफिक पुलिसकर्मी भी दिखाई नहीं देता. लगता है कि इन झाड़ियों के कारण वाहन चालकों में भिड़ंत होती रहेगी और जब तक कोई जान न चली जाये तब तक इन्हें साफ भी नहीं किया जाएगा.