congress

  • पदवीधर चुनाव परिणाम पर प्रतिक्रियाएं

नागपुर. अब तक भाजपा के कब्जे में रही नागपुर संभाग पदवीधर सीट पर महाविकास आघाड़ी के उम्मीदवार कांग्रेस नेता अभिजीत वंजारी की शानदार जीत पर जहां कांग्रेसी खेमे में जश्न का वातावरण है और कार्यकर्ताओं में नया उत्साह दौड़ने लगा है, वहीं भाजपा खेमे में मायूसी छायी हुई है. भाजपा को इस हार की उम्मीद भी नहीं थी और अब नेता चिंतन की बात कर रहे हैं. सभी ने अपनी-अपनी प्रतिक्रियाएं दी हैं.

संघभूमि पर दीक्षाभूमि की विजय : राऊत

पालक मंत्री नितिन राऊत ने महाविकास आघाड़ी के वंजारी की जीत को ‘संघभूमि पर दीक्षाभूमि’ की जीत बताया है. उन्होंने कहा कि 55 वर्ष के इतिहास में पहली बार मिली इस विजय से जिले के पालक मंत्री के रूप में मुझे में विशेष आनंद हो रहा है. इस जीत के लिए महाविकास आघाड़ी के सभी नेताओं ने अपना जोर लगाया था, जिनका दिल से आभार है. उन्होंने कहा की मतदाताओं के ऋणी रहेंगे और उनके हित के लिए कार्य करेंगे. 

महाविकास आघाड़ी को जनता ने स्वीकारा : तुमाने

शिवसेना सांसद कृपाल तुमाने ने कहा कि महाविकास आघाड़ी को राज्य की जनता ने स्वीकार कर लिया है. यह जीत इसे साबित करती है. सरकार बनते ही वह संकट का सतत सामना कर रही है. मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के नेतृत्व में इस सरकार ने उत्तम कार्य किया है. पदवीधर चुनाव की जीत उस कार्य का सुफल है. शिवसेना की ताकत इस चुनाव में सिद्ध हो गई है. महाविकास आघाड़ी सभी चुनाव साथ लड़ेगी तो विजय निश्चित होगी. 

जनता के सामने नतमस्तक : देशमुख

गृह मंत्री अनिल देशमुख ने कहा कि पदवीधर चुनाव में महाविकास आघाड़ी को जीत दिलाकर अपना भरोसा जताने वाली राज्य की जनता के सामने हम नतमस्तक हैं. सत्ता में रहने का गणित हमने एक वर्ष पूर्व ही बिठाया. अब भारी जनसमर्थन मिल रहा है. भाजपा की राजनीतिक धोखाधड़ी में अब जनता नहीं फंस रही है, यह इस चुनाव से स्पष्ट हो गया है. हम कल भी जनता के सामने विनम्र थे, आज भी हैं और हमेशा रहेंगे.

OBC समाज ने दिया साथ : तायवाड़े

ओबीसी नेता बबनराव तायवाड़े ने कहा कि इस चुनाव में महाविकास आघाड़ी के उम्मीदवार व कांग्रेस नेता अभिजीत वंजारी के साथ पूरा ओबीसी समाज था. उनकी जीत से समाज में हर्ष है. वंजारी शिक्षा क्षेत्र से जुड़े रहे हैं और अब वे पदवीधरों के प्रतिनिधि के रूप में उनके हितों के लिए संघर्ष करेंगे. इस जीत से पूरा समाज गौरवान्वित हुआ है. 

फडणवीस की हार : लोंढे

प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता अतुल लोंढे ने वंजारी की जीत को पूर्व सीएम देवेन्द्र फडणवीस की हार बताया है. उन्होंने कहा कि राज्य में विपक्ष के नेता फडणवीस के नेतृत्व को जनता ने स्पष्ट रूप से नकार दिया है. आगामी स्थानीय निकाय चुनाव भी बैलेट पर लिया जाए, ईवीएम से चुनाव पर जनता का विश्वास नहीं रहा है. झूठ बोलने वालों को जनता पहचान गई है. एक वर्ष के महाविकास आघाड़ी सरकार के काम का सुपरिणाम जनता ने दिया है. 

सोशल मीडिया पर झूठा प्रचार : व्यास

भाजपा विधायक गिरीश व्यास ने कहा कि पदवीधर चुनाव में सभी ने मेहनत की. सीट सुरक्षित नहीं रख पाए, इसके लिए निश्चिय ही आत्मचिंतन किया जाएगा. भाजपा की हार हम स्वीकार करते हैं. कांग्रेस ने जाति की राजनीति की और सोशल मीडिया पर झूठा पोस्ट वायरल किया गया जिससे मतदाता भ्रमित हुए. हमने गृह मंत्री अनिल देशमुख से शिकायत की लेकिन कोई कार्रवाई नहीं की गई. इसके पूर्व सोशल मीडिया में ऐसे गलत पोस्ट पर सीएम उद्धव ठाकरे ने त्वरित कार्रवाई की थी, लेकिन चुनाव में जाति की राजनीति कर झूठा प्रचार करने वालों पर कोई कार्रवाई नहीं की गई. 

जीत उत्साह बढ़ाने वाली : ठाकरे

शहर कांग्रेस अध्यक्ष व विधायक विकास ठाकरे ने कहा कि यह जीत निश्चित ही उत्साह बढ़ाने वाली है. पदवीधर चुनाव में योग्य उम्मीदवार का चयन किया गया. अब मतदाताओं की अपेक्षा पूरी करने में किसी तरह की कमी नहीं होने देंगे. यह विजय कांग्रेस व महाविकास आघाड़ी की है. 

करेंगे आत्मचिंतन : तिवारी

भाजपा के वरिष्ठ नगरसेवक दयाशंकर तिवारी ने कहा कि अनपेक्षित परिणाम से हम निराश या घबराने वाले नहीं हैं. अब और अधिक परिश्रम करेंगे. आगामी चुनाव के मद्देनजर आत्मचिंतन भी किया जाएगा. उन्होंने कहा कि पदवीधर चुनाव की मतदान सूची में अनेक गड़बड़ियां थीं. इस संदर्भ में हमने शिकायत की थी लेकिन सुनवाई नहीं हुई. आगामी चुनाव को देखते हुए अब तक केन्द्र सरकार द्वारा किए गए कामकाज का लेखाजोखा मतदाताओं के सामने रखेंगे. 

जाति की राजनीति : मते

भाजपा विधायक मोहन मते ने कहा कि इस चुनाव में विरोधियों ने शुरू से ही जाति की राजनीति करते हुए झूठा प्रचार किया. निश्चित रूप से उसका फटका बैठा और इस चुनाव में हम कहां कम पड़े इसका चिंतन बैठक में किया जाएगा. नये मतदाताओं के पंजीयन के लिए उनके घर-घर जाकर सभी कार्यकर्ताओं व पदाधिकारियों ने कठोर परिश्रम किया. मतदाताओं की समस्याओं को न्याय दिलाने के लिए काम किया और आगे भी कोई कसर नहीं छोड़ेंगे. 

विश्वास अब भी कायम : कुकरेजा

मनपा स्वास्थ्य समिति सभापति विक्की कुकरेजा ने कहा कि मतदाताओं की इच्छा को हम मान्य करते हैं. जीत की हमें पूरी आशा थी. हमारे उम्मीदवार की हार हुई फिर भी हमारा विश्वास कायम है. कांग्रेस-राकां-शिवसेना ने इस चुनाव में जाति की राजनीति की. कांग्रेस ने सोशल मीडिया पर झूठा पोस्ट डालकर मतदाताओं को भ्रमित करने का काम किया. 

कार्यकर्ताओं का मनोबल बढ़ा : कोटेचा

प्रदेश कांग्रेस कमेटी के सचिव अतुल कोटेचा ने कहा कि भाजपा-आरएसएस के 55 वर्षों के गढ़ को ध्वस्त कर कांग्रेस ने स्नातक निर्वाचन क्षेत्र से जीत हासिल कर जो ऐतिहासिक विजय प्राप्त की है, उससे सम्पूर्ण विदर्भ के कांग्रेसी कार्यकर्ताओं का मनोबल बढ़ा है. कांग्रेस के सभी वरिष्ठ नेताओं के अलावा राकां व व शिवसेना के कार्यकर्ताओं के संगठित प्रयास का यह फल है. विजय से विदर्भ में कांग्रेस को संजीवनी मिली है. 

भाजपा के ब्राह्मणवाद की पराजय : पाटिल

राकां प्रदेश प्रवक्ता प्रवीण कुंटे पाटिल ने कहा कि संदीप जोशी की हार देवेन्द्र फडणवीस के नेतृत्व व भाजपा के ब्राह्मणवाद की पराजय है. यह बहुजन शक्ति की जीत है. हिन्दुत्व के नाम पर बहुजन समाज का उपयोग करने और सत्ता में विशिष्ट जाति को प्रधानता देने का खेल भाजपा व संघ खेलता है, लेकिन अब जनता जागृत हो चुकी है. भविष्य में भी राज्य के किसान, दलित, वंचित घटक भाजपा को उसकी असली जगह दिखाएंगे. 

अहंकार का किला ध्वस्त : हेमंत

मनसे के प्रदेश सचिव हेमंत गडकरी ने कहा कि अति आत्मविश्वास और अहंकार के चलते ही पदवीधर चुनाव में भाजपा का किला ध्वस्त हो गया. वंजारी कुछ वर्षों से इस चुनाव के लिए परिश्रम कर रहे थे. अब जीत के बाद वे पदवीधरों के साथ ही शैक्षणिक क्षेत्र की समस्याओं पर अधिक से अधिक ध्यान रखें, उनका निराकरण करें. 

संगठित प्रयास का फल : पाण्डेय

कांग्रेस सेवादल के राष्ट्रीय सलाहकार कृष्णकुमार पाण्डेय ने कहा कि भाजपा-आरएसएस के 55 वर्षों के गढ़ को ध्वस्त कर वंजारी के रूप में कांग्रेस ने स्नातक निर्वाचन क्षेत्र से जीत हासिल कर जो ऐतिहासिक विजय प्राप्त की है, यह जिले के पालक मंत्री व प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कार्याध्यक्ष नितिन राऊत के नेतृत्व में सभी नेताओं व कांग्रेस-राकां-शिवसेना के कार्यकर्ताओं के संगठित प्रयास का फल है.