सिटी में फिर 51 की बलि, संक्रमितों के साथ कम हो रहा मरने वालों का आंकड़ा

नागपुर. पिछले कुछ दिनों से कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या में कमी देखी जा रही है. सिटी में मरीजों के स्वस्थ होने की संख्या भी में भी तेजी से बढ़ोतरी हो रही है. बुधवार को 51 संक्रमितों की मौत हो गई जिस मिलाकर कोरोना की कुल बलि 2205 पर पहुंच गई है. गत एक सप्ताह की तुलना की जाए तो सिटी और ग्रामिण इलाकों में संक्रमितों और मरने वालों के आंकड़ों में कमी देखी जा सकती है.

16 अक्टूबर को सिटी में 2052 मरीज पॉजिटिव पाए गए थे और 60 संक्रमितों की मौत हो गई थी, लेकिन यह आंकड़ा कम होते हुए बुधवार को 51 तक पहुंच गया. बुधवार को जिले में 4776 नमूनों की जांच की गई जिसमें 1291 रिपोर्ट पाजिटिव आई है. इसे मिलाकर अब तक कोरोना पाजिटिव की संख्या 67,671 पर पहुंच गई है. इसमें 53,568 सिटी के और 13,716 ग्रामीण भागों के हैं. वहीं 387 जिले के बाहर के हैं. 

1357 को मिली छुट्टी
बुधवार को अनेक अस्पतालों से 1513 मरीजों को ठीक होने के बाद छुट्टी दी गई. इस तरह अब तक जिले में कुल 51,912 मरीज ठीक होकर अपने घर जा चुके हैं. जो 1291 रिपोर्ट पाजिटिव आई है उसमें एम्स लैब के 84, मेडिकल 200, मेयो 175, नीरी 74, निजी लैब्स 366, एंटीजेन टेस्ट 321 शामिल हैं. अभी भी निजी लैब्स में अधिक भीड़ देखी जा रही है. जानकारी के अनुसार सिटी में रिकवरी रेट  76.71 फीसदी पर पहुंच गई है. बावजूद इसके अब भी 13,370 एक्टीव मरीज कोरोना का उपचार ले रहे है. 

सतर्कता ही सबसे जरूरी
संक्रमितों और मरने वालों का आंकड़ा कम होते तो दिखाई दे रहा है. यदि जनता अपनी जिम्मेदारी को समझ कर नियमों का पालन करे तो जल्द ही सिटी में कोरोना को नियंत्रित किया जा सकता है. सिटी में लॉकडाउन की शिथिलता के बाद जो नजारा दिख रहा है उससे कोरोना के प्रसार को बल मिल रहा है. हर चौराहों, फुटपाथ, सरकारी कार्यालयों के सामने व परिसर में अब चाय-पान, नाश्ता सेंटरों में लोगों की भारी भीड़ नजर आ रही है. केवल पार्सल सेवा की अनुमति के बावजूद लोग वहीं खड़े होकर चाय-नाश्ता करते नजर आ रहे हैं.

सोशल डिस्टेंसिंग का पालन तो नहीं ही हो रहा है. गुमटियों में बिना मास्क लगाए ही लोग नजर आ रहे हैं. दूकानदार ग्लब्स नहीं पहन रहे हैं. प्रशासन व डाक्टर के साथ ही नेतागण नागरिकों से बार-बार अपील कर रहे हैं कि कोविड-19 के लिए जारी दिशानिर्देशों का कड़ाई से पालन कर ही जानलेवा महामारी से बचा जा सकता है लेकिन कोई इसका पालन करता नजर नहीं आ रहा है. 

प्रशासन को आंकड़ों पर सवाल
पिछले कुछ दिनों से जिला प्रशासन और मनपा द्वारा जारी किये गए कोरोना के आंकड़ों में कोई मेल नहीं होने के कारण नागरिक सिटी की सही परिस्थिति को लेकर असमनजस में थे. बुधवार को जिला प्रशासन और मनपा द्वारा जारी की गई रिपोर्ट को देखने के बाद हर किसी के होश उड़ गए. रिपोर्ट में कोरोना मूक्त मरीजों की संख्या अचानक हजारों से कम हो गई. वहीं अस्पतालों में एक्टीव पेशंट की संख्या में बढ़ोतरी बताई गई. बता दें की मंगलवार की रिपोर्ट में प्रशासन ने अब तक 55,212 स्वस्थ मरीजों को छुट्टी दिये जाने के बारे में बताया था लेकिन बुधवार को रिकवरी की संख्या हजारों से कम हो कर अचानक 51,912 पर पहुंच गई. 

कोरोना की आंकड़े बाजी

दिन               पॉजिटिव मौत

16 अक्टूबर 2052 60

17 अक्टूबर 1717 64

18 अक्टूबर 1703 45

19 अक्टूबर 1629 52

20 अक्टूबर 1226 54

21 अक्टूबर 1350 48

22 अक्टूबर 1273 54

23 अक्टूबर 1291 51