Shelar

    नागपुर. भाजपा नेता व पूर्व मंत्री आशीष शेलार ने आरोप लगाया है कि स्थानीय निकाय चुनावों में ओबीसी आरक्षण के मुद्दे पर कांग्रेस ‘हेराफेरी’ कर रही है. साथ ही राज्य की मविआ सरकार ने पूर्व सीएम देवेंद्र फडणवीस द्वारा ओबीसी आरक्षण के लिए निकाले गए अध्यादेश को यह सरकार टिका नहीं पाई और जीआर भी रद्द कर दिया. वे प्रेस-परिषद में बोल रहे थे. शेलार ने कहा कि राज्य सरकार में शामिल कांग्रेस के मंत्री विजय वड्डेट्टीवार, प्रदेशाध्यक्ष नाना पटोले और छगन भुजबल ये तीनों दिग्गज खुद ओबीसी समाज का नेतृत्व करते हैं और सरकार में बैठे हैं. बावजूद इनका बाहर अलग बयान होता है और सरकार के अंदर कुछ अलग ही रंग दिखा रहे हैं. उन्होंने कहा कि फिल्म हेराफेरी के बाबूराव, श्याम और राजू की भूमिका ये तीन दिग्गज ओबीसी आरक्षण के संदर्भ में निभाते नजर आ रहे हैं. हेराफेरी के बाद फिर हेराफेरी और फिर हेराफेरी रिटर्न करते हुए कांग्रेस ओबीसी जनता को बेवकूफ बनाने का काम कर रही है. प्रेस-परिषद में प्रवीण दटके, गिरीश व्यास, कृष्णा खोपड़े, विकास कुंभारे, अर्चना डेहनकर, चंदन गोस्वामी उपस्थित थे.

    चैलेंज करने वाले पटोले के करीबी

    शेलार ने बताया कि स्थानीय निकाय संस्थाओं में ओबीसी आरक्षण को चैलेंज करने वाले विकास गवली और रमेश डोंगरे का कांग्रेस से गहरा नाता है. इनमें विकास गवली तो पूर्व कांग्रेस विधायक का बेटा है. दूसरे डोंगरे पूर्व जिप अध्यक्ष हैं जो कांग्रेस से हैं. इन दोनों में से एक का प्रदेशाध्यक्ष पटोले के करीबी संबंध है. उन्होंने कहा कि ये नेता यह कहकर जनता को बेवकूफ बनाने का काम कर रहे हैं कि ओबीसी सेंसस केन्द्र सरकार ने नहीं की, जबकि अदालत ने राज्य सरकार को 15 महीने पहले ओबीसी आयोग गठित कर ओबीसी का इम्पीरिकल डेटा मांगा था. 15 महीनों में राज्य की इस तिकड़ी सरकार ने कुछ नहीं किया. 8 बार कोर्ट से तारीख मांग कर टाइमपास करने का कार्य किया गया. ओबीसी आयोग गठित कर समाज का आंकड़ा राज्य सरकार को देना है, केन्द्र को नहीं. आयोग गठित करने में 14-15 लगा दिए.

    BJP करेगी आंदोलन

    ओबीसी समाज के साथ हुए इस अन्याय के चलते राज्य सरकार के खिलाफ भाजपा ने आंदोलन करने का निर्णय लिया है. शेलार ने  कहा कि गवली और डोंगरे से कांग्रेस के क्या संबंध हैं, यह जनता के सामने जाहिर करें. ओबीसी आरक्षण अगर कर्नाटक, गुजरात में संभव हो सका, पूर्व सीएम फडणवीस ने वह कर दिखाया था तो मविआ सरकार को यह क्यों नहीं जम रहा है.

    वार्ड निहाय मनपा चुनाव 

    मविआ सरकार द्वारा आगामी मनपा चुनाव प्रभाग की बजाय वार्ड निहाय कराने के संदर्भ में शेलार ने कहा कि खुद को जिताने के लिए ये कुछ न कुछ तो करेंगे ही लेकिन भाजपा को इससे कोई अंतर नहीं पड़ने वाला है. भाजपा सबका साथ और सबका विकास के विजन पर चल रही है. जनता इस सरकार के कार्यों को भी देख ही रही है. उन्होंने उप मुख्यमंत्री अजीत पवार के बीड़ दौरे के दौरान कोरोना काल में स्वास्थ्य सेवा देने वाले कर्मचारियों पर हुए लाठीचार्ज का कड़ा निषेध किया.