cow
File Photo

  • 2 वाहनों समेत 15.30 लाख का माल जब्त

नागपुर. पांचपावली थाने के कांस्टेबल की सतर्कता की वजह से 54 गौवंशों की जान बच गई. कसाइयों ने बड़ी ही क्रूरता से गौवंशों को वाहन में बंधक बनाए रखा था. इसके अलावा मदरसे में भी कुछ गौवंश मिले. वाहन मालिक और कसाइयों का पता नहीं चल पाया. पुलिस जांच में जुटी है. सोमवार को तड़के पांचपावली के बीट मार्शल रोशन सहारे परिसर में गश्त कर रहे थे. बाबा बुध्दाजीनगर की मक्का मस्जिद के सामने 2 चौपहिया वाहनों में हलचल सुनाई दी.

सहारे ने जांच कि तो वाहनों में गाय, बछड़े और बैल लदे हुए थे. उन्होंने तुरंत आला अधिकारियों को जानकारी दी. तुरंत अधिकारी और कर्मचारी मौके पर पहुंचे. मस्जिद के सामने खड़े वाहन क्र. एमएच-30/एजी-4201 और एमएच-37/जे-304 में बड़ी बेरहमी से मवेशियों को लादा गया था. उनके हिल पाने की भी जगह नहीं थी. पुलिस को और गौवंशों की आवाज सुनाई दी. पास के कुरैशी मदरसे में जांच की तो वहां भी गौवंशों को बांधा गया था. 

5 की हालत थी नाजुक

कुल 54 गौवंशों मिले, जिनमें से 5 की हालत बहुत ज्यादा खराब थी. पुलिस ने तुरंत महानगर पालिका के अधिकारियों को जानकारी दी. एम्बुलेंस भेजकर 5 गौवंशों को रेस्क्यू किया गया. अन्य गौवंश गौरक्षण केंद्र में भेजे गए. पुलिस वाहन के नंबरों के आधार पर मालिक और गौवंश की तस्करी करने वालों का पता लगा रही है. फिलहाल पुलिस ने अज्ञात आरोपियों के खिलाफ विविध धाराओं के तहत मामला दर्ज किया है.

डीसीपी लोहित मतानी और एसीपी सचिन थोरबोले के मार्गदर्शन में इंस्पेक्टर संजय मेंढे, रवि नागोसे, एपीआई चंद्रकांत कोसे, विवेक लामतुरे, सब-इंस्पेक्टर प्रमोद खंडार, अर्जुन राऊत, हेड कांस्टेबल सगीर शेख, नंदकिशोर वालदे, रोशन सहारे, अणित सातपुते, शैलेष चौधरी, विनोद बरडे, बालकृष्ण राठोड़, नितिन धकाते, नितिन वर्मा, कमलकिशोर चव्हाण, संतोष शिवणकर, राहुल चिकटे, सुमित बावनगड़े, सचिन जयपुरकर और नितिन लोखंडे ने कार्रवाई को अंजाम दिया गया.