Corona Death 01
File Photo

नागपुर. डाक्टरों के अनुमान के मुताबिक कोरोना पाजिटिव के साथ ही मरने वालों की भी संख्या बढ़ती दिखाई दे रही है. पिछले 15 दिनों में मौत का आंकडा कम हुआ था. जिस वजह से डाक्टरों ने भी राहत की सांस ली थी. लेकिन शुक्रवार को 20 मरीजों की मौत ने एक बार फिर डाक्टरों को सतर्क कर दिया. वहीं जिले में 344 नये संक्रमित मरीज मिले है. डाक्टरों ने लोगों से सावधानी बरतने और लक्षण दिखाई देने पर तत्काल उपचार कराने की सलाह दी है.

गुरुवार की रात को अचानक मौसम का मूड बदला और बादल बरसने लगे. तड़के 4 और फिर शुक्रवार की दोपहर को भी कुछ हिस्सों में बारिश हुई. बारिश के कारण ठंड गायब हो गई और उमस जैसा माहौल बना रहा. दरअसल इस तरह का मौसम स्वास्थय के लिए बिलकुल भी उपयुक्त नहीं है. इसमें जुकाम, सिरदर्द, अपचन,गश्त और उल्टी जैसी समस्याएं हो सकती है. यही वजह है कि तत्काल उपचार और विशेषज डाक्टरों की सलाह आवश्यक है. करीब 15-20 दिनों से पाजिटिव मरीजों के साथ ही मरने वालों की संख्या में भी कमी आई थी. लग रहा था कि अब कोरोना की चेन टूट जाएगी, लेकिन स्थिति विपरीत दिखाई दे रही है.

टेस्ट की रफ्तार बढी

शुक्रवार को चौबिस घंटे के भीतर जिले में कुल 6997 लोगों के नमूनों की जांच की गई. इनमें 344 संक्रमित पाये गये. वैसे देखा जाये तो यह संख्या ज्यादा नहीं है, लेकिन पिछले सप्ताह की तुलना में अधिक है. इस तरह अब तक जिले में कुल संक्रमित मरीजों की संख्या 108000 हो गई है. वहीं पिछले 8 महीने के भीतर 3570 लोगों की जान चली गई. फिलहाल जिले में 3629 एक्टिव केस है. इनमें अधिकांश मरीज होम आसयोलेशन में रहकर उपचार करा रहा हैं. शुक्रवार को 203 मरीजों को ठीक होने के बाद छुट्टी दी गई. इस तरह अब तक 100801 मरीज ठीक हो चुके है.