Nagpur Jail

नागपुर. तिहाड़ और मुंबई की सेंट्रल जेल में कोरोना का संक्रमण फैलने के बाद नागपुर सेंट्रल जेल द्वारा सुरक्षा के तगड़े इंतजामात किए गए. बावजूद इसके नागपुर जेल में कोरोना की एंट्री हो गई. इससे पूरा जेल प्रशासन पेरशान हो गया है. अधिकारी और कर्मचारी दहशत में है. बताया जाता है कि अधिकारी सहित 9 लोगों की कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजीटिव आई है. अब अन्य अधिकारियों और जवानों की जांच करवाई जा रही है.

बताया जाता है कि 11 से 26 जून तक एक दल जेल के भीतर ही क्वारंटाइन रहकर अपना कामकाज संभाल रहा था. बाहर आने के बाद एक कर्मचारी की तबीयत खराब हुई. 27 को उनकी जांच करवाई गई और 28 को रिपोर्ट पॉजीटिव आई. तुरंत उस कर्मचारी को मेडिकल अस्पताल में दाखिल करवाया गया. साथ काम करने वाले 30 अधिकारी और जवानों की जांच करवाई गई. इसमें 1 अधिकारी सहित कुल 9 लोग पॉजीटिव पाए गए. इतने लोगों के पॉजीटिव होने से पूरे जेल में हड़कंप मच गया. अन्य 21 की रिपोर्ट निगेटिव आई. उन्हें भी क्वारंटाइन रहने को कहा गया है.

सभी 9 लोगों का उपचार मेडिकल अस्पताल में चल रहा है. उनके परिजनों को भी क्वारंटाइन किया गया है. जेल एसपी अनूप कुमरे ने बताया कि अब तक करीब 100 लोगों की कोरोना जांच की जा चुकी है. अन्य अधिकारी और कर्मचारियों की रिपोर्ट अभी नहीं आई है. बुधवार को उनकी रिपोर्ट आ सकती है. जेल में करीब 250 कर्मचारी है. स्थिति को देखते हुए अन्य लोगों की जांच करवाई जाएगी. इतनी सुरक्षा उपाय योजना होने के बावजूद कोरोना का संक्रमण कैसे हुआ आश्चर्य की बात है. जेल में बाहर से आने वाले सभी कैदियों की पहले कोरोना जांच करवाई जाती है. साथ ही उन्हें पहले क्वारंटाइन किया जाता है. 15 दिन पूरे होने के बाद उन्हें सेंट्रल जेल में दाखिल किया जाता है. (एजेंसी)