699 new cases of corona in Rajasthan, 10 killed
File Photo

नागपुर. मार्च से शुरू हुआ कोरोना मरीजों का सिलसिला अब तक जारी है. सेकेंड वेव की संभावना के मद्देनजर एक बार फिर प्रशासन सतर्क हो गया है. लेकिन लोगों की लापरवाही अब भी जारी है. संक्रमित होने के बाद भी कई लोग बीमारी को हल्के में ले रहे हैं. आइसोलेशन की बजाय घूमना-फिरना जारी है. यही वजह है कि एक बार फिर कोरोना की तीव्रता बढ़ने की संभावना है. पिछले 2 दिनों से जांच की गति एक बार फिर धीमी पड़ गई है. इस वजह से संक्रमित मरीज भी कम मिल रहे हैं. इस बीच सोमवार को 18 मरीजों की मौत हो गई. करीब सप्ताहभर बाद मरने वालों का आंकड़ा बढ़ा है.

फिलहाल कोरोना को लेकर एक ओर जहां लोगों के मन में भय है, वहीं दूसरी ओर लापरवाही भी बरती जा रही है. अब तो कई जगह सोशल डिस्टेंसिंग भी नजर नहीं आता. लोग केवल वाहन चलाते वक्त चालान से बचने के डर से मास्क पहनने लगे हैं. डॉक्टरों का कहना है कि सेकेंड वेव की संभावना को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता. मामूली लक्षण भी होने पर लोगों की जांच कराना चाहिए. ताकि समय पर उपचार किया जा सके. रविवार को 5,161 लोगों की जांच की गई. वहीं सोमवार को भी 4,505 लोगों की ही जांच की जा सकी. शनिवार तक 7,000 से अधिक लोगों की जांच की जा रही थी. इस वजह से संक्रमित मरीज भी अधिक आ रहे थे, लेकिन अब जांच कम होने से उनकी संख्या कम हो गई है. 

एक्टिव केसेस भी बढ़े

सोमवार को 18 मरीजों की मौत के साथ ही अब तक जिले में मौत का आंकड़ा 3,672 तक पहुंच गया है. 288 नये मरीज मिले हैं. इनके साथ ही कुल संख्या 1,11,765 हो गई. फिलहाल जिले में 4,926 एक्टिव केसेस हैं. इनमें से अधिकांश मरीज अब भी होम आइसोलेशन में रहकर ही उपचार करा रहे हैं. सोमवार को 295 मरीजों को ठीक होने के बाद छुट्टी दी गई. इस तरह अब तक कुल 1,03,167 मरीजों को छुट्टी मिल सकी है. इस वजह से रिकवरी रेट 92.31 फीसदी हो गया है. 

शादी-सगाई में बढ़ी भीड़

इन दिनों शादी-सगाई समारोह की भरमार हो गई है. लॉन, मंगल कार्यालयों में सुबह और शाम के बाद समारोह हो रहे हैं. हालांकि प्रशासन ने अब भी इन समारोह के लिए संख्या निश्चित की है, लेकिन इन दिनों ध्यान देने वाला कोई नहीं होने से भीड़ जैसी स्थिति देखने को मिल रही है. भीड़ होने के बाद भी लोग मास्क के बिना ही नजर आ रहे हैं. वहीं सोशल डिस्टेंसिंग की भी धज्जियां उड़ाई जा रही हैं. डॉक्टरों की मानें तो यदि लोग मास्क पहनकर रहें और सोशल डिस्टेसिंग का पालन करें तो कोरोना की चेन को तोड़ा जा सकता है.