14.2 lakh people in the country recover from coronavirus
File Photo

नागपुर. सितंबर की तुलना में कोरोना का कहर कम हो रहा है. एक ओर जहां मरने वालों की संख्या कम हुई है, वहीं दूसरी ओर संक्रमित भी कम हो रहे है. डाक्टरों ने भी राहत की सांस ली है, लेकिन प्रशासन एक बार फिर ‘सेकेंड वेव’ से निपटने की तैयारी में जुट गया है. संभावना व्यक्त की जा रही है कि नवंबर के अंत और दिसंबर के पहले सप्ताह में एक बार फिर कोरोना मरीजों का फ्लो बढ़ सकता है. फ्लो बढ़ने के पीछे मुख्य कारण मौसम में बदलाव माना जा रहा है. इस बीच सोमवार को 457 नये संक्रमितों के साथ ही अब तक कुल संख्या 91132 हो गई है.

सोमवार को कुल 19 मरीजों की मौत हुई. इनमें 4 ग्रामीण, 10 सिटी और 5 मरीज अन्य जिलों के रहे. इसके साथ ही अब तक कुल 2966 मरीजों की मौत हो चुकी है. सोमवार को चौबिस घंटे के भीतर जिले में 6813 लोगों की जांच की गई. इसमें 457 लोगों में संक्रमण की पुष्टि हुई है. इनमें सिटी के 321 और ग्रामीण के 131 लोगों का समावेश रहा. अब तक कुल 568000 लोगों की जांच हो चुकी है.

फिलहाल जिले में 6310 एक्टिव केस है. इनमें अधिकांश मरीज होम आयसोलेशन में रहकर उपचार कर रहे हैं. सोमवार को 497 मरीजों को छुट्टी दी गई. इस तरह अब 81856 लोग ठीक हो चुके है. यही वजह है कि अब जिले में रिकवरी रेट 89.82 फीसदी हो गया है. 

सर्दी, जुकाम बढ़ेगा 

डाक्टरों की माने तो अब ठंड का मौसम शुरू हो जाएगा. इस सीजन में सर्दी, जुकाम के मरीज बढ़ जाते हैं. ठंड के मौसम में निमोनिया, अस्थमा जैसी बीमारी जोर पकड़ने लगती है. जबकि कोरोना के शुरूआती लक्षण भी इसी तरह के होते हैं. यही वजह है कि अगले महीने में मरीजों के बढ़ने की संभावना व्यक्त की जा रही है. साथ ही त्योहार होने से लोग एक से दूसरी जगह भी बड़ी संख्या में जाते हैं. यदि सावधानी और सतर्कता बरती गई तो बीमारी पर काबू पाया जा सकता है, लेकिन लापरवाही बरती गई तो एक बार फिर बीमारी का प्रकोप बढ़ सकता है. डाक्टरों ने स्वास्थ्य को लेकर सतर्कता बरतने की अपील की है.