Market on Road, Yavatmal
File Photo

  • उड़ीं सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां
  • 2 दिन मार्केट खुला होने से दोपहर में पहुंचे लोग

नागपुर. 15 से 21 मार्च तक शहर में कड़क लॉकडाउन की भनक जैसे ही लोगों को लगी वैसे ही वे मार्केट में जरूरी सामान की खरीदी करने के लिए टूट पड़े. पहले से ही वीकेंड लॉकडाउन यानी शनिवार और रविवार को पूरे मार्केट बंद रहने से लोगों के पास गुरुवार और शुक्रवार का दिन ही बचा है. इसे देखते हुए लोग गुरुवार की दोपहर से ही मार्केट में पहुंच गये और जरूरी सामानों की खरीदी की. मार्केट में जमी भीड़ ने सोशल डिस्टेंसिंग सहित सभी नियम-कानून की धज्जियां उड़ा दीं. किसी एक मार्केट ही नहीं, बल्कि शहर के बर्डी, इतवारी, किराना ओली, गांधीबाग, धरमपेठ सहित विविध मार्केट‍्स में भीड़ संभालना मुश्किल नजर आ रहा था. किराना से लेकर सब्जी सहित जरूरत की चीजों की खरीदारी के लिए दिनभर दूकानों में लोगों डटे रहे. दूसरी ओर शराब दूकान और पेट्रोल पंप में भी लंबी कतार देखने को मिली.

पहले से अधिक सख्ती रहने की संभावना

एक बार फिर से तेजी से कोरोना के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए इस बार लॉकडाउन में प्रशासन द्वारा पहले से अधिक सख्ती रहेगी ऐसी संभावता जताई जा रही है. दूसरी ओर 7 दिनों के बाद भी लॉकडाउन बढ़ने की संभावना लोगों के मन है. इसे देखते हुए लॉकडाउन के पहले लोगों ने सात दिन के बजाय 15 से 20 दिनों के राशन की खरीदी में जोर दिया. दोपहर से लेकर रात तक सभी किराना, डेली नीड्स, सब्जी मार्केट ओर होटलों में लोगों की भीड़ रही.

दूकानदारों के मुताबिक लोग जरूरत से अधिक राशन की खरीदी कर रहे हैं ताकि सात दिनों के लॉकडाउन में किसी प्रकार परेशानी न हो और इसके बाद भी लॉकडाउन बढ़ाया जाता है तो भी लोगों के जरूरत की सामान उपलब्ध हों. इसके अलावा सब्जी मार्केट में भी यही स्थिति देखने को मिली. लोगों ने सात दिनों के हिसाब से मार्केट में खरीदी की. अच्छी बात यह रही कि सात दिनों के लॉकडाउन के बाद भी सब्जी के दामों में ज्यादा इजाफा नहीं किया.

कहीं जाना नहीं फिर भी फुल टैंक पेट्रोल

इस बार लॉकडाउन में पहले से अधिक सख्ती होने के संकेत पहले ही शासन-प्रशासन ने दे दिए हैं. बाकायदा अनावश्यक घूमने वाले लोगों के वाहन जब्त कर ठोस कार्रवाई करने की चेतावनी भी दी गई है. वैसे भी जरूरी चीजों में पेट्रोल पम्प खुले रहने वाले हैं. इसके बाद भी लोग रिस्क न लेते हुए पेट्रोल भरा रहे हैं. पेट्रोल पंप में पेट्रोल डलवाने दुपहिया और चौपहिया वाहनों की भीड़ देखी गई. 

ऑनलाइन उपलब्ध, फिर शराब दूकान में लंबी कतार

शराब की ऑनलाइन डिलीवरी सुविधा के साथ लोगों को उपलब्ध होगी. इसके बाद भी शराब दूकान के बाहर मदिरा प्रेमियों की लंबी कतार देखने को मिली. लॉकडाउन को देखते हुए मदिरा प्रेमियों ने दो चार दिन के कोटे के मुताबिक खरीदी की. सूत्रों के मुताबिक लॉकडाउन के पहले औसत से दोगुनी शराब की ब्रिकी हुई.